लौट आओ तुम

लौट आओ तुम


 उनसे मिलने का सौभाग्य उसे दूरदर्शन की अपनी नौकरी की वजह से मिला था। मीता की उस केन्द्र में कम्पीयर के रूप में तभी नई-नई नियुक्ति हुई थी। बेहद मासूम चेहरे पर उज्ज्वल, गहरी काली आंखें उसकी विशेषता थी। आवाज की ताज़गी और मीठी खनक ने, उसकी सबसे अलग पहचान बना दी थी। कुछ ही दिनों में वह दर्शकों की फेवरिट कम्पीयर बन गई थी। फै़न-मेल से आए पत्रों को वह बड़े उत्साह से पढ़ती और आरती को लिख भेजती।


आलोक जी के इन्टरव्यू के लिए केंद्र निर्देशक ने कुछ देर सोचने के बाद उसका ही नाम सुझाया था। इस बात पर मीता को ताज्जुब ही हुआ था, उससे सीनियर कई अनुभवी कम्पीयर थी, उसके बावजूद केंद्र-निर्देशक द्वारा उसका नाम सुझाया जाना, उसे बहुतों की ईर्षा-पात्री बना गया।

इतने महत्वपूर्ण व्यक्ति से साक्षात्कार कैसे कर पाऊंगी बड़ी-बड़ी आंखों में आश्चर्य सिमंट आया था।

‘अब बनो मत, में तो लड्डू फूट रहे हैं। ऊपर से बाते बना रही है।’ कान्ता ने चिढ़े स्वर में कहा।

‘नही कान्ता दी, सच्ची डर लग रहा है। सुना है वो जिससे नाराज हो जाएं, उसकी छुट्टी हो गई समझो।’

तुझे क्यों डर लग रहा है? तेरे सुन्दर मुखड़े पर तो सौ खून भी माफ़ किए जा सकते हैं, वर्ना इतनी एक्सपीरिएंस्ड इन्टरव्यूअर के रहते डाइरेक्टर साहब तुझे चुनते? निशा के स्वर में हिकारत झलक रही थी।

‘इसके लिए मुझे क्यों दोष दे रही है, मैने थोड़ी जाकर उनसे कहा...।’ मीता रूआंसी हो आई।

‘क्यों बेचारी के पीछे पड़ी हो, सच तो यह है मीता जिस सहजता से इन्टव्यू लेती है, हम किसी को संभव नहीं है।’ अलका दी ने मीता का पक्ष लिया।

‘हमें क्या पड़ी है जो किसी के पीछे पड़ें। आप तो अलका दी कमाल ही करती हैं, इत्ते ही दिनों में यह नई लड़की आपकी अपनी हो गई और हम बेग़ाने हो गए।’ निशा ने शिकायत सी की थी।

मेरे लिए तो तुम सब समान हो, पर मेरे ख्याल में नई पीढ़ी को अच्छे चांस मिलने ही चाहिए। अपने टाइम में हमने मनचाहा कर लिया, अब इनका ज़माना है। चलो इसी बात पर आज सबको चाय मैं ही पिलाती हूँ।

‘थैंक्यू अलका दी, पर अभी तो पिछले प्रोग्राम की एडिटिंग नही कर पाई हूँ। आज उसे निबटाना है, मुझे तो माफ करें।’ निशा ने चाय पीने के साथ, न जाने का अच्छा सा बहाना खोज लिया।

‘मुझे भी ए.एस.डी. से मिलना है, तीन बजे का टाइम दे रखा है। आपकी चाय उधार रही अलका दी।’ कान्ता का बनावटी बहाना, स्पष्ट था।

‘ठीक है, चल मीता’ अपन दोनों ही चाय पीने चलते हैं, ‘या तुझे भी कोई काम है?’ हल्की मुस्कान के साथ अलका दी ने पूछा था।

‘आपके साथ चाय पीने से ज्यादा महत्वपूर्ण काम और कौन सा होगा, अलका दी।’

‘चमची कहीं की।’ कान्ता हल्के से बुदबुदाई थी।

‘देखना है, कितने दिन इसकी चमचागीरी करेगी।’ निशा झुंझलाई थी।

कैंटीन-स्वामी ने आदर से अभिवादन किया था।

‘आज बहुत दिन बाद आने का टाइम मिला है दीदी को।’

‘हां बनवारी, कुछ न कुछ लगा ही रहता है। चैनल बढ़ने से काम तो बढ़ेगा ही।’

‘सो तो ठीक कहा दीदी, क्या भेजू’

‘आज का क्या स्पेशल है बनवारी, वही भेज दो।’

‘आज तो गरमागरम आलू-चाप हैं। अरे ओ सुरेशवा, इधर दो स्पेशल चाय और टिक्की तो देना।’ बनवारी ने अपने साहयक को वहीं से आवाज लगाई।

‘और कहो मीता यह शहर कैसा लग रहा है?’ अलका ने टिक्की की टुकड़ा मुंह में रखते हुए पूछा।

‘बहुत अच्छा। अपने छोटे से शहर के मुकाबले ये बड़ा शहर है। आप यहां कब से हैं अलका दी’

‘अब तो लगता है युगों से यहीं रहती आई हूँ। वैसे मेरा घर सुल्तानपुर में है। शायद नाम नहीं सुना होगा’

‘सुल्तानपुर, हमारी तो ननसाल ही सुल्तानपुर में है। नानाजी वहां तहसीलदार थे। बचपन में कई बार उधर जाना हुआ है।’

‘वाह तब तो हम मौसेरी बहनें हैं, ठीक कहा न’

‘मुझे तो हमेशा आपसे बड़ी बहिन जैसा-स्नेह मिला है, अलका दी। शुरू से आपने हर जगह, हर पल मेरी सहायता की है, आप न होती तो...।’

‘कोई और होता। तुममें गुण हैं, उन्हें पहिचानों मीता। अपने को अंडर एस्टिमेट कभी नहीं करना चाहिए, वर्ना दूसरे लोग फायदा उठा लेते हैं।’

‘आप शुरू से ही इतनी बोल्ड थीं, अलका दी’

‘शुरू से... मैं बोल्ड...क्या मैं बोल्ड दीखती हूँ, मीता?’

‘आपके साहस की तो सभी दाद देते हैं अलका दी। सुनते हैं स्टेशन डाइरेक्टर तक आपसे डरते हैं।’

‘बड़ी कड़वी बात कह गई मीता।’

मुझे माफ़ करें, अलका दी।

‘किस-किस को माफ़ करूं, मीता। सभी ने ऐसा ही समझा है मुझे।’ अलका उदास हो आई थी।

उस उम्र में भी अलका में एक अजीब आकर्षण था। छरहरी-लम्बी देह के साथ मुख की बनावट भी सुन्दर थी। निश्चय ही युवावस्था में वह बहुत सुन्दर रही होगी। नियुक्ति के बाद से मीता, अलका का इधर-उधर नाम वह सुनती आ रही है।

‘अरे बाप रे, वह तो बड़ी जबरदस्त चीज़ है, सबकी ऐसी की तैसी कर देती है, जरा सम्हल के रहना उससे।’ पहले ही दिन निर्मला ने मीता को समझाया था।

‘पर हमें तो वह बहुत अच्छी लगती हैं। ठीक बात के पक्ष में ही तो वह आवाज़ उठाती हैं। मीता ने हर मिटिंग में अलका दी को न्याय के लिए आवाज़ उठाते देखा था।

‘जो खुद ठीक न हो वह न्याय की गुहार लगाए। सौ-सौ चूहे खाकर बिल्ली हज को चली।’ निशा खिलखिल हंस पड़ी।

निशा की वो हंसी मीता को बिल्कुल अच्छी नहीं लगी थी। बाबूजी कहा करते थे पीठ पीछे बुराई उन्हीं की की जाती है, जिनमें कुछ ईर्षा लायक होता हो।

उस दिन के बाद से मीता अन्य लड़कियों से कटकर, अलका दी के निकट होती गई थी। कभी जी में आता उनसे पूछे-इस सुन्दर रूप के साथ, उम्र की इतनी सीढ़ियां बिना विवाह कैसे चढ़ गई, अलका दी? मधुमास की एक भी छींट आप पर क्यों नहीं पड़ीं, पर कभी पूँछ पाने का वह साहस न कर सकी।

मीता कभी यह भी नही सोच पाई कि अलका दी के बारे में इधर-उधर होती खुसपुस अकारण ही तो नहीं होगी, आज उन्हीं का वह स्वयं दिल दुखा बैठी।

चाय पीकर अलका के साथ लौटती मीता की स्टेशन डाइरेक्टर साहब के यहां से बुलाहट आई थी।

‘मिस वर्मा’ कल शाम पांच बजे आलोक जी का इन्टरव्यू, उन्हीं के बंगले पर लेने जाना होगा। प्रश्न बहुत अच्छे होने चाहिए। ऐसा कीजिए प्रश्नावली तैयार कर, एक बार मुझे, जरूर दिखा दें। आप उनके बारे में कुछ जानती हैंµ

‘जी सर, उनका बायोडाटा मेरे पास है। आप कुछ और बताना चाहेंगे?’

‘अरे उनके बारे में रोज ही कोई न कोई समाचार छपता रहता है। पुराने अखबार देख लो, बहुत मैटीरियल मिल जाएगा। चाहो तो शम्भूनाथ की हेल्प ले लो, उसने काफ़ी दिन उनके साथ काम किया है। मैं उससे कह दूंगा।’

आलोक जी के विषय में चारो ओर से इंस्ट्रकशन्स मिल रहे थे। इन सब निर्देशों ने मीता को डरा सा दिया। कालेज, विश्वविद्यालय की डिबेटों में उसे फ़स्र्ट प्राइज मिलती रही है। उसकी प्रेजेन्स आॅफ माइंड के कारण बाबूजी हमेशा चाहते रहे, वह वकील बने, पर उनके असामयिक निधन ने सब गड़बड़ा दिया। घर की सबसे बड़ी बेटी मीता को यह जाॅब लेना पड़ा। छोटा भाई उस समय इंजीनियरिंग के द्वितीय वर्ष में था। शायद दो-तीन वर्षों में स्थिति सुधर जाए। सबसे छोटी बहिन अभी बारहवीं कक्षा में है। बाबूजी ने वकालत में जितना कमाया, उससे ज्यादा खुले हाथ खर्च किया। दुनिया भर के दीन-दुखी बाबूजी से ही सहायता मांगने इकट्ठे रहते। रिश्तेदारों ने भी उनकी उदारता का हमेशा बेजा फा़यदा उठाया। अम्मा लाख मना करतीं पर बाबूजी हंस कर टाल देते।

‘अरे शांति इनकी दुआ ही काम आएगी। धन-सम्पत्ति साथ बांधकर ले जाना है क्या?’

‘साथ बांधकर ले जाने को कहीं कुछ छोड़ते भी हो, पर इतना तो सोचो दो-दो लड़कियों की शादी करनी है। सब दूसरों पर खर्च कर डालते हो, अपनी भी सोची है’

‘दूसरों की मदद करो, अपनी मदद भगवान करेगा।’

‘इसीलिए दूसरों की लड़कियों की शादी की इतनी चिन्ता है कि अपनी बेटियों को भुला ही बैठे हैं। कौन विश्वास करेगा चचेरे भाई की लड़की की शादी का पूरा खर्च तुमने उठाया है? देख लेना, हमारे वक्त पर कोई काम नहीं आएगा।’

‘जो सबकी रक्षा करता है, वह विधाता तो अपने हिसाब में सब रखेगा शांति। अपने नाम को सार्थक करो और शांति रखो, देवि।’

अम्मा की बातों को बाबूजी यूंही हंसी में उड़ा देते। बाबूजी क न रहने पर कौन काम आया? सबका यही सोचना था जिसने दूसरों की शादी में इतना पैसा खर्च किया, वे अपनी लड़कियों के लिए ज़रूर प्रबंध कर गए होंगे।

जिन्हें बाबूजी ने सदैव दिया, उनसे कुछ लेने का अनुरोध कर पाना कठिन था। बाबूजी के निधन पर आए लोग, सच्चे हृदय से दुख मना, विदा हो गए। बाद में अम्मा ने जब चाचा से मीता के विवाह के लिए प्रयास को कहा तो उन्होंने बड़े जोश से हामी भी थीµ

‘आप परेशान न हों, भाभी जी हमारी मीता लाखों में एक हैं। भगवान की कृपा से भाई साहब देने-लेने का इंतजाम कर ही गए हैं। मैं तुरन्त बात शुरू करता हूँ।’

‘पर भइया, नगद देने को हमारे पास कुछ नहीं है, तुम तो जानते ही हो, इन्होंने अपने घर-परिवास के बारे में कभी सोचा ही नहीं।’

‘क्या कह रही हैं भाभी जी, अरे कोई घर-फूंक तमाशा देखता है क्या? भाई साहब ने तो दूसरों के ब्याह-काज निबटाए हैं, भला अपनी बेटियों के लिए सोचा न होगा।’

‘सच यही है भइया, कितना समझाती रही, पर उनके कानों में मेरी कोई बात जो पड़ी हो। अब तुम्हारा ही आसरा है।’ अम्मा रुआंसी हो गई।

‘ठीक है, भाभी जी, देखूंगा।’ चाचा जैसे घबरा से गए। उसके बाद उन्होंने जो एकाध प्रस्ताव सुझाए, उनसे विवाह करने की अपेक्षा अविवाहित रहना, मीता को अधिक सहज लगा था। अम्मा ने विरोध में अगर कुछ कहना चाहा तो चाचा ने दो टूक जवाब दे दियाµ

‘देखिये भाभी जी अगर दहेज देने के नाम पर पास में कुछ न हो तो समझौता तो करना ही पड़ता है। आजकल बिना दहेज लिए विवाह करने वाले बस कहानियों में ही मिलते है।’

‘भइया दिहाजू के साथ बेटी ब्याह भी दूं, पर उनकी उम्र भी तो देखो। मीता से दुगनी उम्र होगी, उस पर दो बच्चों का साथ...।’

‘तब आप ही खोज लीजिए बेटी के लिए वर। बड़ी मुश्किल से यह संबंध मिला था। आगे से आप जाने, हमसे उम्मीद न रखें।’

मीता ने उसी समय प्रण ले लिया था, नौकरी करके भाई और बहिन की पढ़ाई पूरी कराएगी। वह बाबूजी के स्वप्नों को यूं छिन्न-भिन्न नहीं होने देगी। अम्मा उसके फैसले को सुन रो पड़ी थींµ

‘तू नौकरी करेगी? लड़की की कमाई पर हम निर्भर होंगे। यही दिन देखने को वो हमें छोड़ गए।’

उस समय मीता ने अम्मा को बच्चों सा पुचकारा थाµ

‘अम्मा आजकल लड़के-लड़की में कौन फ़र्क करता है? भइया की नौकरी लगते ही मेरी शादी कर देना, ठीक है न? रोती अम्मा हंस पड़ी थींµ

‘अच्छा-अच्छा बड़ी आई पुरखिन बनने। अभी तो मकान के किराए से काम चल जाएगा, तुझे नौकरी करने की ज़रूरत नहीं है समझी।’

‘मकान के किराए से क्या-क्या कर सकोगी अम्मा? भइया को तकलीफ़ नहीं होनी चाहिए। होस्टेल में कितना चार्च आता है, कुछ पता भी है, अम्मा’

सीधी-सादी अम्मा ने इन बातों का कभी हिसाब नहीं रखा था। मीता को बाबूजी की फ़िजूलखर्ची पर कभी क्रोध नहीं आया। अम्मा उन्हें हमेशा व्यर्थ ही परेशान करती हैं, पर अब मीता को बाबूजी से नाराज़गी तो नहीं, पर शिकायत थीµउन्होंने अम्मा की सुनी होती तो आज वह दूसरों के सामने यूं असहाय तो न होती।

पास के शहर में नए दूरदर्शन-केंद्र की स्थापना होने वाली थी। केंद्र के लिए कैजुअल कम्पीयर, उद्घोषिकाओं की नियुक्ति का विज्ञापन देख, मीता ने आवेदन दे दिया। अम्मा को समझाया थाµ

‘वहां रहते प्राइवेट पढ़ाई भी कर लूंगी, अम्मा। काम भी बेहद आसान है, कभी-कभी अनाउंसमेंट भर करने होंगे।’

अम्मा की अनिच्छा के बावजूद मीता को नौकरी मिल गई। छह महीने के बाद ही उसे स्थायी कर दिया गया। आज वह सफल उद्घोषिका और कम्पीयर गिनी जाती है।

‘क्या बात है मीता, बड़ी-खोई सी दिख रही है? क्या एस.डी. ने कुछ कहा है?’ अलका दी ने उसे विचारों की दुनिया से यथार्थ में ला पटका।

‘नहीं-नहीं वैसे ही कुछ पुरानी बातें याद आ गई थीं, अलका दी।’

‘ये कमबख्त यादें..........हां तूने इन्टरव्यू की तैयारी कर ली?’

‘अभी किए लेती हूँ, न जाने क्यों डर सा लग रहा है।’

‘डर किस बात का? प्रश्न पूछते समय कैमरे को भूल, सहज स्वाभाविक ढंग से बात करनी चाहिए। तू तो एक्सपर्ट है, आॅल दि बेस्ट।

‘थैक्यू, अलका दी।’ मीता के ओठों पर मुस्कान आ गई।

शाम को सवा चार बजे कार उसे लेने पहुंच गई। कैमरे के साथ नवीन आया था। प्रोड्यूसर और अन्य स्टाफ अलग वैन में पहुंच चुके थे। नवीन की फोटोग्राफी की सभी तारीफ़ करते थे। पूना इंस्टीच्यूट से फा़ेटोग्राफी की डिग्री के साथ, उसका अनुभव-क्षेत्र बहुत विशद् था। उद्घोषिकाओं का नवीन के प्रति मुग्ध-भाव रहता था। वह चाहे तो किसी को ऐसा सुन्दर बना दे कि लोग देखते रह जाएं, पर अगर किसी से चिढ़ गया तो समझो उसकी छुट्टी हो गई। एक बार निशा और उसकी कुछ कहा-सुनी हो गई थी, उस दिन निशा का सुंदर चेहरा, निहायत मामूली सा लगा था। नवीन को खुश रखने में ही भलाई समझी जाती थी।

मीता के प्रति नवीन का व्यवहार सदैव संयत रहा, इसलिए दोनों के बीच अभी तक तकरार का मौका नहीं आया। मीता ने हल्की प्याजी़ रंग की साड़ी के साथ कानों में मूंगे के टाॅप्स और मूंगे की लाॅकेट वाली चेन पहिन रखी थी। उसके गोरे रंग पर प्याजी़ रंग खिल रहा था दृष्टि पड़ते ही नवीन के ओंस गोल हो गए। हल्की सीटी के साथ उसने मीता की रूप-सज्जा को अपनी स्वीकृति दे दी।

‘वाह आप तो एकदम तैयार बैठी हैं, लगता है आलोक जी से मिलने की बड़ी जल्दी है।’

‘ऐसी बात नहीं है, पर समय की हमेशा से पाबंद रही हूँ। एक कप चाय चलेगी?’

‘आज नहीं पर एक दिन सिर्फ चाय नहीं, भरपेट खाना खाकर जाऊंगा। खाना पकाना जानती हैं, न?’

‘खाकर बताइएगा।’ मीता हल्के से मुस्कुरा दी।

‘तो चलें?’

कार से आलोक जी के घर पर पहुंचने में करीब पन्द्रह मिनट लगे होंगे। बंगले के सामने मनोहारी गार्डेन मीता को बहुत अच्छी लगी। गार्डेन के बीच में रंगीन फा़उंटेन शोभा बढ़ा रहा था।

‘कितनी सुन्दर गार्डेन है, लगता है आलोक जी को प्रकृति से बहुत प्रेम है।’

‘उन्हें बहुत सी चीजों से प्रेम है। हो सकता है आपसे भी.........।’

‘छिः, कुछ तो सोचकर बोला करो, जो मुंह में आया कह दिया।’

‘गलत नहीं कह रहा हूँ, मेरा अनुभव कहता है, आप पर डोरे डाले जाएंगे और जाल में फंस जान आपकी नियति है।’

‘प्लीज, मुझसे ऐसी बातें मत किया करो, नवीन। मुझे ये सब अच्छा नहीं लगता।’ मीता जानती थी नवीन उस तरह के मजाक सभी से करता रहा है।

एक वर्दीधारी वेटर ने चाय, तले काजू और बिस्किट अदब से सामने रख दिए। आलोक जी के पी.ए. ने अभिवादन कर, सूचना दीµ

‘मंत्री जी शहरी-विकास की मीटिंग लेकर अभी पहुंचे हैं, दस मिनट का समय लेंगे। असुविधा के लिए क्षमा करें।’

‘आप परेशान न हों, अगर इजाज़त हो, आपकी गार्डेन देखना चाहूंगी।’

‘बड़े शौक से मिस....लगता है आपको भी गार्डेनिंग का शौक है।’

‘गार्डेनिंग का नहीं, पर सुन्दर गार्डेन देखने की शौकीन जरूर हूँ। नवीन, तुम भी आ रहे हो?’

‘न भई, मैं यहीं भला। आराम से चाय पीऊंगा और म्यूजिक का आनंद लंूगा।’

‘जल्दी-जल्दी चाय गले के नीचे उतार, मीता बाहर आ गई। गुलाबों के उतने रंग, एक साथ देख पाना, एक अनुभव था। मखमली घास के लाॅन के चारों ओर सफ़ेद-पीले क्रिसेंथेमम घेरा बनाए हुए थे। अनगिनत रंग-बिरंगे फूलों का मेला देखती मीता, अपने को भूल सी गई थी। कैमरे की क्लिक से उसकी तंद्रा भंग हुई थी।.......सामने खड़ा नवीन उसे देख मुस्कुरा रहा थाµ

‘ये क्या....तुमने मेरी फा़ेटो क्यों खींची?’

‘इस जगह खड़ी आप एकदम वनदेवी लग रही थीं। अपने को रोक नहीं पाया, लगा अगर इस भंगिमा को कैमरे में कैद कर सका तो मेरी कला सार्थक है।’

‘ठीक कहा। मैंने भी कुछ ऐसा ही सोचा था, चित्र की एक प्रति मेरे पास भी भिजवा दीजिएगा।’

उस आवाज पर दोनों ने चैंक कर देखा, गार्डेन के एक छोर पर बंद गले के सफेद कोट-पैंट में खड़े आलोक जी मुस्कुरा रहे थे। व्यक्तिगत रूप से मीता उनसे भले ही पहले नहीं मिली थी, पर उनके ढ़ेरों चित्र समाचारपत्र पत्रिकाओं से प्रकाशित देखे थे। आकर्षक व्यक्तित्व के स्वामी आलोक जी इतने सहज भाव से उनकी बातों में सम्मिलित होंगे, इसकी मीता ने कल्पना भी नहीं की थी।

‘गुड ईवनिंग, सर।’ नवीन ने सम्मान पूर्वक सिर झुका अभिवादन किया।

‘नमस्ते।’ मीता के दोनों हाथ जुड़ गए।

‘नमस्ते। बहुत देर इंतजार करना पड़ा आपको। जल्दी आना चाह कर भी पहुंच नहीं सका। हम लोग तो दूसरों की मर्जी के गुलाम जो ठहरे।’ हल्की मुस्कान के साथ आलोक जी ने मीता की ओर देखते हुए अपनी बात कही थी।

उनकी आवाज में जैसे शहद घुला था। सुनने वाले की आंखों में सीधे देख, अपनी बात कहते आलोक जी की वाणी से कोई भ्ज्ञी अप्रभावित नहीं रह सकता था। साथ की महिला सहकर्मियों की मीता के प्रति ईष्र्या, अनायास ही नहीं थी।

अनुत्तरित मीता की ओर सहास्य देख, आलोक जी ने सबको भीतर चलने का निमंत्रण दियाµ

‘आइए अब अन्दर चलें। आप जब चाहें, इस गार्डेन में आपका स्वागत है, पर अभी तो जिस काम के लिए आप आई हैं, उसे पूरा किया जाए।’

उस पूरे समय उन्होंने नवीन की उपस्थिति को सर्वथा नकार दिया था। मीता मन ही मन घबरा सी गई। कहीं नवीन का मूड उखड़ गया तो?

हाॅल में पहुंच मीता को उनके पद की गरिमा का अंदाज़ हो गया। विशाल हाॅल की प्रत्येक वस्तु मूल्यवान थी। सोफे़ पर बैठ, आलोक जी ने उसे आंमत्रित किया थाµ

‘आइए यहाँ बैठकर बातचीत आसानी से हो सकेगी, क्यों मिस्टर....आपका क्या ख्याल है?’

‘जी हां सर, यहीं ठीक रहेगा।’ प्रोड्यूसर शांतिकुमार व्यस्त हो उठे थें।

आलोक जी के समीप बैठती मीता संकुचित हो उठी। नवीन ने टेबिल के सामने से गुलदान हटा एक ओर कर दिया था। आलोक जी उसकी तैयारी से उदासीन, मीता से बातें कर रहे थे।

‘लगता है दूरदर्शन-केंद्र में नई आई हैं, शायद पहली नियुक्ति है?’

‘जी.....।’

‘बात बहुत कम करती हैं, इन्टरव्यू तो ले पाएंगी न?’

‘उसी के लिए तो आई हूँ। दरअसल आपसे पहले तो कोई परिचय था नहीं, इसलिए कोई काॅमन टाॅपिक समझ में नहीं आ रहा है।’ आलोक जी की चुनौती ने मीता के अन्तर के डिबेटर को जगा दिया।

‘ओह! अब बात समझ में आई। इन्टरव्यूअर का नारायणस्वामी ने ठीक चुनाव किया है।’ अब वह हंस रहे थे।

नवीन की तैयारी पूरी हो चुकी थी। साउंड रिकार्डिस्ट ने एक दो शब्द सुन, ओ.के. कह दिया। लाइट्स आॅन के साथ प्रोड्यूसर ने हाथ से इशारा कर इन्टरव्यू शुरू करने को कहा था।

सहज स्वाभाविक ढ़ंग से मीता ने साक्षात्कार शुरू किया। आलोक जी ने प्रश्नों के उत्तर इतने अच्छे ढ़ंग से दिए कि बातचीत बहुत आसान हो गई। एक के बाद एक, बात निकलती गई, कहीं भी रिटेक की जरूरत ही नहीं पड़ी। अन्त में मीता ने एक प्रश्न उनके शौक पर भी पूछाा था।

रीडिंग, ट्रेनिंग, गार्डेनिंग जैसी हाॅबीज के साथ मंत्री पद पर पहुंचने वाले आलोक जी निश्चय ही असाधारण पुरूष थे।

‘परिवार के साथ क्या आप न्याय कर पाते हैं? इतनी हाॅबीज, राजकाज के कारण क्या पूरे परिवान-जन को समय दे पाना संभव हो पाता है?’

‘मेरा परिवार तो पूरा देश है। माता-पिता ने तो मुझे कत्र्तव्यों से क्षमा दे रखी है, पर देशवासियों की जिम्मेदारी के लिए कोई छूट लेना संभव नहीं। उनके प्रति जिम्मेदारी ठीक निभाता हूँ या नहीं, यह तो उन्ही से पूछ देखिए।’

अचानक मीता को एहसास हुआ इतनी बड़ी भूल वह कैसे कर गई, उनके बायोडाटा में साफ़ लिखा था-पढ़ाई पूरी करने के बाद अपने ग्राम के उत्थान का संकल्प ले, उन्होंने कार्य प्रारम्भ किया था। उनकी वही ग्राम-सेवा, उन्हें विधायक और उसके बाद राज्य मंत्री बना गई थी। विवाह के विषय में कही एक पंक्ति भी तो नही दी गई थी।

वस्तुतः उनकी निष्ठा, समर्पित सेवा-भाव ने उन्हें मुख्य मंत्री और दूसरे मंत्रियों में सर्वाधिक लोकप्रिय और महत्वपूर्ण बना दिया था। उनकी ईमानदारी की चर्चा आम बात थी, गरीबों के वे मसीहा माने जाते थे। आलोक जी ने विवाह क्यों नहीं किया, मीता के मन में यह प्रश्न बार-बार उभर रहा था, पर पूछने के पहले डाइरेक्टर साहब की अनुमति ज़रूरी थी। न जाने क्यों उन्होंने कह दिया थाµ

‘उनके व्यक्तिगत जीवन के विषय में प्रश्न न पूछना ही ठीक है। उन्होंने जनता के लिए व्यक्तिगत सुखों का परित्याग किया है।’

पर क्यों? क्या पारिवारिक दायित्वों का निर्वाह करते, समाज-सेवा असंभव है? बाबूजी और अम्मा की छोटी-छोटी बातों पर कहा-सुनी मीता को याद हो आई थी। बाबूजी ने भी अगर समाज-सेवा का संकल्प लिया होता तो बहुत सफल रहते। अम्मा के कारण कहीं तो उन्हें अपने को रोकना पड़ा होगा।

‘कहां सो गई मीता जी?’ आलोक जी के प्रश्न ने मीता को चैंका दिया।

‘आपका आॅटोग्राफ़ लेना चाहती हूँ, पर आॅटोग्राफ़-बुक घर में ही रह गई। अगर आप माइंड न करें तो प्लीज इस पर कुछ लिख दें......।’ सफेद रूमाल मेज पर फैलाती मीता, संकुचित थी।

‘कपड़े पर लिखने का यह पहला अनुभव होगा। लाइए ट्राई करता हूँ। क्या लिख दूँ? हस कर आलोक जी ने मीता को देखा था।

‘जो जी चाहे लिख दें। मैं रूमाल कस कर खींचती हूँ, तब आपको लिखने में आसानी होगी। हम लोग इसके लिए कॅम्पटीशन करते थे।’ बहुत भोलेपन से अपनी बात कहती, मीता ने रूमाल दोनों छोर से खींचकर, कागज सा सीधा कर दिया।

खिंचे रूमाल पर झुककर आलोक जी ने लिखा थाµ

‘ऐसे ही मुस्कुराती रहें सदैव....आलोक।’

लिख चुकने के बाद अपना पेन बन्द कर मीता की ओर बढ़ा दिया।

‘यह कलम तुम्हारा हुआ।’

‘धन्यवाद....।’ पेन थामे मीता की आंखे चमक उठी।

‘अरे गजानन, इन लोगों को अच्छी तरह खिलाकर भेजना, वर्ना एडिटिंग में बदला लेंगे। मजा़क से कही उनकी बात पर सब हंस पड़े।

‘ओ.के. थैंक्स। अब चलूंगा, एक और मीटिंग है। फिर मिलेंगे।’

अपनी बात पूरी करते ही आलोक जी हाॅल से बाहर चले गये थे। उनके जाते ही जैसे हाॅल का प्रकाश म(िम पड़ गया था। गजानन जी के साथ जलपान लेते प्रसन्न थे, पर मीता को जैसे कहीं कोई कमी सी लग रही थी।

‘मीता जी आज का दिन आपका बहुत अच्छा रहा। मंत्री जी ने अपना पेन उपहार में दे दिया।’ प्रोड्यूसर शांतिकुमार खुशमिजाज व्यक्ति थे।

‘मीता जी ने इन्टरव्यू भी तो कमाल का लिया था।’ गजानन जी ने जैसे शाबासी सी दी थी।

सिर्फ़ नवीन चुप बैठा, चाय के घूंट लेता रहा। उसकी वह चुप्पी मीता को डरा गई।

दूसरे दिन डाइरेक्टर ने बुलाकर पूरी रिपोर्ट ली। इन्टरव्यू की एडिटिंग की जिम्मेदारी नगेन्द्रराय को दी गई थी। प्रसारण के पहले डाइरेक्टर ने स्वयं देख, इंटरव्यू अप्रूव किया था।

‘इन्टरव्यू अच्छा लिया है, कीप इट अप।’ डाइरेक्टर की उस बात पर मीता का चेहरा खिल गया।

‘चलिए आपको तो इनाम पहले ही मिल चुका है। कम ही लोग आप से भाग्यशाली होंगे जिन्हें आलोक जी ने अपना कीमती पेन इतनी उदारता से उपहार में दे डाला हो।’ नवीन के स्वर में व्यंग्य की स्पष्ट झलक थी।

‘अच्छे छायांकन के लिए तुम भी बधाई के पात्र हो नवीन। मैं खुशी से अपना उपहार तुम्हें दे सकती हूँ।’

‘जो चीज आपको दी गई, उस पर अधिकार जमाऊं इतना नीच नहीं हूँ।’

‘इसमें नीचता की बात कहां से आ गई, मैं तो अपनी खुशी से तुम्हें उपहार दे रही हूँ, नवीन......।’

‘थैंक्स फ़ाॅर योर काइन्डनेस।’

यह सच था उस पेन को मीता ने बहुत सम्हाल के अलग धर दिया। कभी अपनी मूर्खता पर हंसी आती, पेन को शो-पीस की तरह सजाकर रखने से लाभ? उसका तो उपयोग होना चाहिए, पर उसका इस्तेमाल करने का उसका जी ही नहीं चाहा। उसे वह ‘लकी’ महसूस होता था। चाहकर भी उसका बचपना, उसे पूरी तरह छोड़ नहीं पा रहा था।

इन्टरव्यू-प्रसारण के बाद से मीता प्रतिक्रियाओं की प्रतीक्षा कर रही थी। पुरूष वर्ग ने बधाई दे, उसका हौसला बढ़ाया, महिला सहकर्मियों ने एक दो चुटीले वाक्य कह, उत्साह पर छींटे डाल दिए।

‘इतना सजधज के इन्टरव्यू लेने गई थी, बेचारे आलोक जी कैसे रेजिस्ट कर पाए होंगे?’

‘देख नहीं, उनके चेहरे पर कैसी मुग्ध मुस्कान थी।’

कांता की बात पर शर्मिष्ठा चिढ़ गई ‘आप तो कांता दी, हर बात में कुछ न कुछ नुक्स निकालती हैं। पब्लिक के लिए इन्टरव्यू क्या मातमी सूरत बनाकर दिया जाता हैं जिस चेहरे को पूरी जनता देखेगी, उस पर नूर तो होना ही चाहिए। रही बात मीता की, वह तो है ही सुन्दर, जो पहिने, फबता है।’

‘लो भई, हमने तो मज़ाक किया था। लगता है अब यहां मजाक भी करने पर पाबंदी लगाई जाएगी। निशा को शर्मिष्ठा का यूं पक्ष लेना खल गया।

‘वर्मा मैडम का फो़न हैµडाइरेक्टर साहब के कमरे में.....।’

‘मेरा फोन?’ मीता घबरा गई। इस समय तो घर से ही फोन आया होगा। पता नहीं क्या बात है।

‘हेलो’ कहते ही गम्भीर पुरूष स्वर सुनाई दिया था।

‘इतनी जल्दी भुला दिया? ऐसा नाकारा तो नहीं?’ अन्त में हल्की हंसी खनक उठी थी।

‘ओह आप.....माफ़ कीजिएगा मैं आपका फोन एक्सपेक्ट नहीं कर रही थी इसलिए.....’

‘किसका एक्सपेक्ट कर रही थी?’ स्वर में फिर वही परिहास था।

‘किसी का भी नहीं, ज़रूरत पड़ने पर घरवाले ही याद कर लेते हैं।’

‘ताज्जुब है आपको दिन में हजार फो़न तो आने ही चाहिए। एनी हाओ थैंक्स फाॅर एन एक्सलेंट इन्टरव्यू।’

‘उसमें मेरा कोई क्रेडिट नहीं था, सर।’

‘आपने सब कुछ इतना सहज बना दिया था कि मैं एकदम नार्मल रहा, वर्ना आई एम कैमरा-कांशस-मैन यू विलीव इट?’

‘आपके चारों ओर तो हमेशा कैमरा रहता है फिर आपकी क्या समस्या है?’

‘बन्द कमरे में, यह जानते हुए कि मैं जो कर रहा हूँ रिकाॅर्ड हो रहा है, एक तरह का टेंशन पैदा कर देता है। खुली सभा या भीड़ में वैसी फी़लिंग नहीं होती। आप जैसा टी.वी. आर्टिस्ट तो हूँ नहीं।’

‘ओह सर, आप तो मुझे यूं ही चढ़ा रहे हैं। मैं एकदम साधारण लड़की हूँ।’

‘अच्छा है यही समझती रहें, जिस दिन अपने असाधारण से परिचय पा लेंगी, धरती पर पांव नहीं रखेंगी।’

सर प्लीज......ये सब झेल पाना मुझे संभव नहीं।’

‘ओ.के. थैंक्स, पर बाई दि वे मुझे आलोक कहें, सर नहीं। याद रखिएगा।’

मीता के नमस्ते कहने के पहले ही फो़न कट चुका था। माथे पर पसीने की बूंदें झिलमिला आई थीं, अच्छा हुआ डाइरेक्टर साहब ऊपर मीटिंग में व्यस्त थे, वर्ना वह क्या सोचते।

कमरे में पहुंचते ही सबकी प्रश्नवाचक दृष्टि के उत्तर में मीता हल्के से मुस्कुरा, दी थीµ

‘नथिंग सीरियस मेरी बहिन की फ्रेंड शहर आई है, उसी ने काॅल किया था। बड़ी मुश्किल से झूठ के तीन कतरे निकल सके थे। आलोक जी का फो़न आया था, कहने भर से कमरे में जो विस्फोट होता, उसकी अपेक्षा यह झूठ बोलना आसान था।

मीता को झूठ से बेहद नफ़रत थी, पर आज उसने उसी का सहारा लिया था। अन्दर से अपने से असंतुष्ट मीता, सहज रह पाने का भरसक प्रयास कर रही थी।

शाम को एकान्त पाते ही मीता ने अलका दी को सब बता दिया था। उसके मुंह पर स्थिर दृष्टि डाल, अलका दी एक पल मौन रह गई थीं।

‘अगर आगे भी फो़न या बुलावा आए तो टाल जाना मीता, मेरी बस यही सलाह है।’

‘अब फा़ेन क्यों आएगा अलका दी, और बुलावा......वह तो असंभव बात है। मेरा उनसे लेना-देना कैसा। वह उम्र पद सब में बड़े हैं, अलका दी। मैं उनके लिए एकदम महत्वहीन हूँ। फोन कर दिया, यही बहुत है।’

‘तू कितनी महत्वपूर्ण है जान जाएगी, पर अपने ऊपर विवेक का अंकुश रखना कभी न भुलना, मीता वर्ना डूब जाएगी।’ एक हल्की सी उसांस अलका दी ने ली थी।

अलका दी के वैसा कहने का क्या अर्थ था? आलोक जी ने भी कुछ ऐसी बात कही थी......जिस दिन असाधारण से परिचय पा लेंगी, जमीन पर पावं नहीं धरेगी। न जाने क्यों मीता का मन उदास हो आया। अचानक बाबूजी याद आने लगे। उनके रहते मीता कितनी सुरक्षित, कितना फ्री महसूस करती थी। काश नीरज छोटा न होकर बड़ा भाई होता।

सुबह को होस्टेल पहुंचने पर अम्मा की चिट्ठी मिली थीµघर के हालचाल सामान्य थे। छोटी बहन आरती की बारहवीं की परीक्षाएं सिर पर हैं। अम्मा ने लिखा था उसे मैथ्स में कोचिंग की जरूरत है। मीता वहां होती तो ट्यूटर की जरूरत नहीं होती। नीरज की थर्ड इअर की परीक्षा समाप्त होने वाली है। वह छुट्टियों में घर आएगा। अगर मीता भी दस-पन्द्रह दिन की छुट्टियां ले पहुंच सके, तो कुद दिन सब साथ रह लेंगे।

सुबह डाइरेक्टर से दस दिनों की छुट्टी लेने का निर्णय ले, मीता सो गई। घर जाने की कल्पना ने मन कपूर सा हल्का कर दिया। होस्टेल की नीरस दिनचर्या के बाद, भाई-बहिनों के साथ बैठ हंसी-चुहल करने की बात सोच, मीता मुस्कुरा उठी। इस बार के वेतन से मां के लिए एक साड़ी लेगी। बाबूजी के बाद अम्मा ने अपनी सारी जरूरतें, बच्चों के नाम कर दी थी। नीरज के लिए टी-शर्ट और आरती के लिए सलवार-सूट वह पहले ही ले चुकी थी। अपनों को देने का सुख तो वह अब जान सकी थी। अभी तक तो सब कुछ बाबूजी ने ही दिया था।

बच्चों के मुंह से निकली हर बात पूरी करना, बाबूजी को कितनी प्रसन्नता दे जाता था।

‘बाबूजी इस बार हम नैनीताल नहीं जाएंगे।’

‘फिर कहाँ जाने की सोची है हमारी बेटी ने?’ मुस्कराते बाबूजी मीता से पूछते।

‘इस बार हम कश्मीर जाएंगे’

‘तो हम सब कश्मीर चलेंगे।’ बाबूजी तुरन्त हामी भर देते। अम्मा भुनभुनाती रह जाती। आज वो बातें याद कर, अम्मा के प्रति ढेर सी सहानुभूति उमड़ आती है। काश् उसने जिन्दगी की सच्चाई का कडुआ पाठ पहले ही पढ़ लिया होता।

स्टेशन डाइरेक्टर ने उसके आवेदन पर नजर डाल, निगाह उठाई थीµ

‘क्या बात है कहीं मैरिज सेटल हो रही है, मिस वर्मा?’

‘नहीं सर, भाई बहिनों के एक्जा़म्स खत्म हो रहे हैं, अम्मा चाहती हैं, हम सब कुछ दिन साथ रहें बस।’ अनार हो आए चेहरे के साथ मीता ने अपनी बात पूरी की थीं

‘ओ.के. हैव नाइस टाइम।’ निर्देशक ने उसकी छुट्टी मंजूर कर दी थी।

मीता का मन बादलों-सा उड़ चला। पर जाने की बात के साथ एक और चेहरा मानस में छाता जा रहा था। नियुक्ति के बाद उसने जब अपने शहर जाने की बात कही थी तो अनुपम बेहद उदास हो आया थाµ

‘क्या जाए बिना नही चल सकता, मीता?’

‘नौकरी करनी है तो घर-बाहर देखकर तो नहीं की जा सकती? जहाँ चांस मिले, जाना ही पड़ता है। तुम जानते हो अनुपम, मुझे जाना ही होगा।’

‘तुम्हें बहुत मिस करूँगा, मीता।’

‘जानती हूँ। यहाँ तो बस मैं नहीं रहूँगी और सब होंगे, पर वहाँ तो नया परिवेश, नयों के बीच, मैं बहुत अकेली रहूँगी अनुपम।’

‘याद केया करोगी?’

‘यह भी कोई पूछने की बात है? अनुपम एक रिक्वेस्ट है, कभी छुट्टियों में समय मिलने पर घर हो आया करना। अम्मा को तुम्हारा सहारा रहेगा।’

‘तुम्हारा हुक्म सिर-आँखों, मीता। वैसे अब तो यहाँ मैं कुछ ही दिनों का मेहमान ठहरा?’

‘क्या मतलब’

‘एम.एस.सी. करने तो मुझे भी शहर ही जाना होगा। शायद तुम्हारे ही शहर आ पहुँचूँ।’

‘स्वागत रहेगा तुम्हारा’

मीता के शहर चले आने के बाद अनुपम ने उसकी बात रखी थी। अम्मा के पत्रों में अनुपम की बड़ाई लिखी रहती थी। बड़ा भला लड़का है। छुट्टी में जब भी आता है, जो काम हुआ कर जाता है। अपने आप हाल पूछने आ जाता है।

शायद गमी। की छुट्टीयों में अनुपम भी मिले। अनुपम के लिए एक छोटा-सा उपहार खरीदकर ले जाने की बात पहले उसने क्यों नहीं सोची थी? रिकाॅर्डिंग के बाद टाइम मिला तो आज की उसके लिए कोई कलात्मक पेंटिंग या वाॅल-हैंगिंग जरूर ले लेगी। बचपन से अनुपम उसके घर आता रहा है। अनुपम के पापा किसी ब्लाॅक में नियुक्त थे। पढ़ाई के कारण अनुपम, अपनी माँ के साथ मीता के घर के पास वाले अपने पैतृक घर में रहता था। उसके पापा प्रायः शनिवार की संध्या आते और सोमवार की प्रातः वापिस चले जाते थे। बचपन से कुशग्र-बु(ि अनुपम, कक्षा में सर्वप्रथम आता रहा था। पाँचवीं कक्षा तक लड़के-लड़कियों के लिए कस्बे में एक ही स्कूल था, अतः करीब तीन-चार वर्षों तक मीता और नीरज के साथ अनुपम भी साथ स्कूल जाया करता था। बाबूजी की असामयिक मृत्यु के समय अनुपम के घर से बहुत सहारा मिला था। अनुपम की माँ ने अम्मा को संभाला था, वरना न जाने क्या होता। अनुपम के पापा जब भी आते, हालचाल पूछने ज़रूर आते थे। अम्मा कहतींµ

‘अच्छे पड़ोसी भाग्य से ही मिलते हैं। भगवान् इनका भला करें।’

मीता और अनुपम के बीच प्रेम-जैसी कोई चीज़ शायद नहीं पनपी थी, पर मीता की हर बात पूरी करना अनुपम का कर्तव्य बन जाता। नीरज से बार-बार मनुहार करती मीता जब थक जाती तो गुस्से में उबल पड़तीµ

‘ठीक है, मत करो मेरा काम, मुझे भी तुम्हारी गरज़ नहीं...।

‘गरज नहीं तो क्यों बेकार हाथ-पाँव जोड़ रही थी? देखें तुम्हारा काम कौन करेगा?’

कहने की देर नहीं होती, अनुपम आनन-फानन काम पूरा कर डालता। कभी-कभी आरती कहती भीµ

‘बेकार ही नीरज भइया की इतनी खुशामद करती हो, अनुपम दा मिनटों में तुम्हारा काम कर डालते हैं।’

‘वो तो ठीक है, पर गै़रों का व्यर्थ एहसान लेना ठीक बात तो नहीं है न, आरती।’

बी.एस्-सी. की परीक्षा में अनुपम ने टाॅप किया था। उस समय मीता बी.ए. पार्ट-1 की छात्रा थी। काॅलेज के प्राचार्य उसकी प्रशंसा करते मुग्ध थेµ

‘अनुपम ने अपना नाम सार्थक किया है, वह सचमुच अनुपम है। इस कस्बे के डिग्री काॅलेज में ऐसा रत्न छिपा है, कौन जानता था? अगर यह लड़का किसी बड़े शहर में होता तो कमाल कर दिखाता।’

‘कमाल तो उसने यहाँ रहते कर दिखाया है, प्रिन्सिपल साहब, बड़े शहरों में तो रोज ही दस-बारह लड़के-लड़कियाँ टाॅप करते रहते हैं, वहाँ टाॅप करना किस गिनती में है?’ एक पत्रकार ने प्राचार्य को बढ़ावा दिया था।

अनुपम की सीधी-सादी माँ बेटे की उस गौरव-गाथा से अभिभूत थीं। उनके पास पहुँच लड़कों-लड़कियों ने जब मिठाई के लिए शोर मचाया तो आँचल से बँधा पचास रुपए का नोट थमाती गद्गद हो उठी थींµ

‘आज तो बस इतने पर तसल्ली कर लो, कल को इसके पापा आएँगे तो जी भी मिठाई-पकवान खा लेना।’

अनुपम के पापा ने पूरे कस्बे के लोगों को पार्टी पर बुलाया था। सभी उसके भाग्य को सराह रहे थे। इलाहबाद से अनुपम के मामा आए हुए थे। उन्होंने अपना कर्तव्य निबाहा।

‘यहाँ जो पढ़ना था, पढ़ लिया, अब मैं अनुपम को साथ ले जाऊँगा। ऐसे ज़हीन लड़के के लिए यहाँ कोई स्कोप नहीं है, शारदा। बाबू इलाहाबाद में रहकर पढ़ाई पूरी करेगा, फिर वहाँ कम्पटीशन की तैयारी की भी सुविधा रहेगी। लड़का कलक्टर बनेगा, देख लीजिएगा।’ मामा की बात पर उसके माँ-बाप का चेहरा दमक उठा।

‘वाह अनुपम, तुम्हारे क्या ठाठ हैं?’ जिसे देखा वही न्योछावर है।’ मीता ने परिहास किया।

‘क्यों नहीं, ब्लैंक चेक हूँ न, सो सभी अपना दावा तो ठोकेंगे ही।’ बाहर जाने के लिए अनुपम ज़्यादा उत्साहित नहीं लग रहा था।

‘ब्लैंक चेक?’ मीता ताज्जुब में पड़ गई थी।

‘हमारे यहाँ लड़कों को ब्लैंक चेक ही माना जाता है। जितना ऊपर उठेगा, उतना ही भारी दाम लगेगा।’ अनुपम खिन्न-सा था।

‘वाह, तब तो तुम्हारी बोली बहुत ऊँची लगेगी, तुम तो टाॅपर ठहरे।’

‘बोली लगाने दूँ तब न?’

‘मतलब तुम किसी के वश में नहीं आनेवाले।’

‘जिसके वश में हूँ, उसके हाथों बेमोल बिकने को तैयार हूँ, मीता।’ अनुपम की उस दृष्टि में न जाने क्या था कि मीता बेहद असहज हो उठी थी।

बहाना बना वह अनुपम के पास से हट गई थी, वरना क्या उस दिन अनुपम उसके समक्ष कोई प्रस्ताव न रख देता।

रिकाॅर्डिंग पूरी हो चुकी थी, बच्चों के साथ काम करना मीता को हमेशा बहुत अच्छा लगता था। दस बार रोको-टोको उनके उत्साह में कमी नहीं आती। महिला-कार्यक्रम बनाने में हमेशा समस्या आ जाती। जहाँ किसी को रोक-टोक लगाई नहीं कि उनके मुँह फूल जाते।

‘मैडम एडिटिंग कब करेंगी?’

‘आज तो देर हो गई, कल कर लेंगे, विश्वनाथ। कल तुम फ्री रहोगे?’

‘एक कप चाय पिला दीजिएगा, फिर फ्री ही फ्री हूँ।’ विश्वनाथ मस्त लड़का था। अभी कैजुअल रूप में उसकी नियुक्ति हुई थी। मीता के साथ काम करनेवालों को कभी शिकायत का मौका नहीं मिलता था। वह स्वयं ज्यादा-से-ज्यादा काम निबटा डालती थी। सभी कैजुअल्स के साथ उसकी सहानुभूति रहती थी। इसीलिए जरूरत पड़ने पर छुट्टी के बाद भी उन्हें काम से एतराज नहीं होता था।

‘ठीक है, एक कप चाय के साथ समोसा भी खिला दूँगी, आज चलती हूँ।’

‘क्या बात है मैडम, आज घर जाने की बहुत जल्दी है?’

‘सैटरडे को घर जा रही हूँ विश्वनाथ, कुछ गिफ़्ट्स लेनी है।’

‘ओह तभी चेहरे पर इत्ती चमक है मैडम के। कब लौटेंगी?’

‘अभी गई नहीं, लौटने की बात कर रहे हो?’

‘आपके बिना अच्छा नहीं लगता, मैडम। एकदम सन्नाटा हो जाता है।’

‘अच्छा-अच्छा, अब बहुत मस्काबाज़ी हो गई, थोड़ी दूसरों के लिए भी छोड़ दो।’ मीता मुस्करा रही थी।

‘हम तो एकदम सच बोला मैडम, किसी को भी पूछ लो, सब ऐसा ही बोलने का। आपको पता नहीं, सब आपको अपनी दीदी मानते हैं, दूसरी मैडम लोगों से तो बस भगवान् बचाएँ... काटने को दौड़ती हैं।’

विश्वनाथ की बात से मीता को हँसी आ गई। मुस्कराहट दबाती मीता उठ खड़ी हुई। उसे पता है उसके साथ ही कुछ सीनियर्स नए लड़के-लड़कियों की छोटी-छोटी गलती पर भी कितना नाराज़ हो जाया करती हैं।

बाजार में अनुपम के लिए उपहार लेने में ज्यादा देर नहीं लगी थी। ‘परम्परा’ में कलात्मक वस्तुओं का भण्डार था। एक पेंटिंग अनुपम के लिए अच्छी लगी थी। ‘मैत्री’ शीर्षक के अन्तर्गत एक नन्ही लड़की और उसके सामने बैठा बन्दर उसे मुँह चिढ़ाता-सा लग रहा था। बचपन में कितनी बार उसने अनुपम से रास्ते में पड़नेवाले राजा साहब के बाग में लगे गदरे अमरूदों की फ़र्माइश की थी। बाग के माली की डाँट-फटकार की परवाह किए बिना अनुपम, चाहारदीवारी लाँघ, पेड़ पर बन्दर-सा चढ़ जाया करता था। हालाँकि वह उसे आश्वस्त करती कि माली की शक्ल दिखते ही उसे अगाह कर देगी, पर दो-तीन बार माली न जाने कहाँ से अचानक प्रकट हो गया और अनुपम की पीठ पर उसके बेंत भी पड़ गए थे। माफी माँगती मीता को देख अनुपम हँस पड़ताµ

‘पगली कहीं की, माली ने हमें जो़र से थोड़ी मारा है, वह तो हमें डरा रहे थे।’

‘देखें तो?’ अनुपम की पीठ से कमीज उठाकर निशान देखने की उसकी कोशिश, हमेशा ही व्यर्थ गई।

अब तो अनुपम एम्.एस्-सी फाइनल की परीक्षा दे चुका होगा। बकौल उसके मामा... इस वर्ष से ही कम्पटीशन्स् की तैयारी करेगा। अचानक अनुपम, नीरज, आरती सबसे मिल आने के लिए मीता बेचैन-सी हो उठी।

होस्टल पहुँच, साथ ले जानेवाले सूटकेस में वो पेन्टिंग रखती मीता एक बार फिर मुस्करा उठी। बिस्तर पर लेटते ही उसने अगले दिन का कार्यक्रम निश्चित कर डाला था-सुबह एडिटिंग निबटाने के बाद पूरे दो सप्ताह का कार्यक्रम तैयार था। अलका दी को दायित्व दे जाने से निर्धारित तिथियों में विश्वनाथ कैसेट ले लिया करेगा। निश्चिन्त मन सोई मीता, सुबह साढ़े सात तक सोई रह गई थी। चाटर्ड बस सवा आठ पर चल देती है। जल्दी-जल्दी तैयार हो, एक बिस्किट के साथ चाय के दो घूँट निगल, मीता नीचे आ गई।

जबसे उसने घर छोड़ा है, सुबह-शाम का नाश्ता-खाना कब चैन से नसीब होता है? अम्मा तो उसके स्कूल-काॅलेज जाते समय भी शोर मचाए रखती थींµ

‘खाना ठीक से नहीं खाएगी तो दिमाग क्या खाक काम करेगा?

बाबूजी अम्मा की इस लाॅजिक पर खूब हँसा करतेµ

‘तुम्हारे विचार में तो पहलवानों के दिमाग तेज़ होने चाहिए, मनों खाते हैं।’

‘आप ऐसी ही बातें करके इन बच्चों को बिगाड़ डालते हैं, मेरी एक नहीं सुनते। माना मैं आप जितनी पढ़ी-लिखी नहीं, पर उतनी मूर्ख भी नहीं कि बच्चों का अच्छा-बुरा न समझ सकूँ।’

‘अरे रे रे... तुम तो नाराज़ हो गई। भला तुम इनका अच्छा-बुरा नहीं जानोगी तो क्या मैं जानूगा? मैं तो स्वयं तुमपर निर्भर हूँ, भई।’ बाबूजी निरीह बन जाते।

‘हमें ही क्यों यहां इतने और लोग जो हैं?’

‘अगर हमें यूरोप-टिप से अचानक न लौटना पड़ता तो दस दिन बाद ही तो यहां पहुचते। बस हमारे आंसू पोंछने के लिए डाइरेक्टर साहब ने पूरी टीम को दार्जिलिंग के लिए बुक कर दिया।’



‘मुझे नही जाना है दार्जिलिंग! घर वालों से मिले कितने महीने बीत गए हैं।’

‘टाई कर देखो, तुम्हारी लीव ग्रांट होने से रही। वैसे एक बात जरूर है, तुम और लड़कियों से बहुत अलग हो।

‘क्योें’

‘वे ऐसे दौरों को दूसरों से छीनना चाहती है जबकि तुम्हें इनके प्रति कोई उत्साह ही नहीं।’

‘हर एक की अपनी रूचि-अरूचि होती है।’

‘वो बात नहीं, और किसी बात के संदर्भ में कहा था मैंने।’

‘किस संदर्भ में नवीन?’

‘छोड़ो, न समझो वही अच्छा है, पर दार्जिलिंग के लिए तैयारी कर डालो। जो वुलेन्स यूरोप के लिए खरीदे थे, कम से कम दार्जिलिंग में तो इस्तेमाल कर डालें वर्ना पैसे बेकार गए, न?’

‘बात पैसों की नहीं है, इस समय इतना होम-सिक महसूस कर रही हूॅ कि बस लगता है उड़कर पहुंच जांउ।’

‘नौकरी में सबसे पहले जिस चीज को छोड़ना चाहिए वो भावुकता है, पर तुम्हें शायद सबसे ज्यादा सगाव इसी वीकनेस से है।’

’तुम इसे वीकनेस कहते हो?’

‘वीकनेस और स्ट्रेन्थ दोनों ही हो सकती हैं। कहीं इसी भावुकता ने लड़की का कैरियर नष्ट कर डाला तो कहीं इसी के बल पर देवी कहलाई।’

‘मुझे न देवी बनना हैं और न दानवी, बस मीता ही रह जांऊष्वही काफी हैं। एक बात तय है, मुझे दार्जिलिंग जाने के लिए कोई मजबूर नहीं कर सकता, मैं घर जा रही हूँ।’

‘एक नेक सलाह मेरी भी मान देखिए... इस चांस को मत खोइए। विश्वास दिलाता हूँ, कोई तकलीफ़ नहीं होने दूंगा। लौटकर भी तो जाया जा सकता है, पर चांस दोबारा शायद ही मिले।’

‘क्या करना है चांस लेकर। स्टेशन डाइरेक्टर बनने की तमन्ना नहीं हैं मेंरी।’

‘शांतिपूर्वक काम तो करना चाहेंगी? बाॅस और नेता को नाराज कर, जी नहीं सकेंगी। मुझ पर विश्वास है न? चलकर देखिए कितना एन्ज्वाँय करेंगी प्लीज।’

‘नवीन के जुड़े हाथ देख मीता हंस पड़ी थी।

‘मुझे साथ ले जाने की कोई खा़स वजह?’

‘तुम्हारे साथ जो सहजता, है दूसरों के साथ संभव नहीं। अपने को न जाने क्या समझती हैं ये लड़कियाॅ, जो उनके नखरे उठाए वही ठीक है।’

‘मैंने तो सुना है लड़कियाँ तूम्हारे नखरे उठाती है।’

‘हां कैमरे जैसा ट्रम्प कार्ड जो अपने पास है। तो चलोगी न?’

‘ठीक है, एक बार तूम्हारे मन की बात ही सही, चलूंगी।’

‘थैंक्यू।’ नवीन का चेहरा खिल उठा।

दार्जिलिंग के मनोहारी दृश्यों ने मीता को मुग्ध कर लिया। होटल की बालकनी से दिखता कचनजंगा का शिखर मीता को बहुत अच्छा लगाा था।

आलोक जी का कार्यक्रम वहां दो दिनों के लिए नियत था। स्थानीय नेताओं से बातें करते आलोक जी के धैर्य पर मीता आश्चर्य कर उठती। विरोधी दलों के व्यक्तियों की अभद्र, अत्तेजित कर देने वाली बातें, वे किस शांति से सुन पाते थे।

शाम को गवर्नमेंट हाउस में गवर्नर की ओर से दिए गए रात्रिभोज में पूरी टी.वी. टीम को शामिल होना था। डिनर के पूर्व स्थानीय कलाकारों द्वारा सांस्कृतिक-कार्यक्रम का आयोजन किया गया था। पारम्परिक गीतों और नृत्यों ने समां बांध रखा था।

डिनर के बाद होटल पहुंचने पर मीता का टेलीफा़ेन बजा थाµ ‘हेलो...।’

‘अगर नींद नहीं आ रही है तो कुछ देर के लिए मेरे रूम मे आ सकती हैं’

’जी... मैं सोने ही जा रही थी, अगर ़जरूरी बात हो तो चेंज करके आ सकती हूँ।’ मीता लड़खड़ा आई थी। अलका दी ने रात में कभी कहीं अकेले न जाने की चेतावनी जो दी थी। आलोक जी को उस समय उससे क्या काम पड़ गया था? मीता का पूरा शरीर कंटकित हो उठा।

‘ओ.के. आप सोइए, फिर कभी सही...।’

जागते-सोते रात बीत गई थी क्यों बुलाया था आलोक जी ने... अगर बह गई होती तो? सुबह की ठंडी हवा ने मीता को जगाया था। कन्धें पर शाल डाल वह बाहर आ गई। सामने के पहाड़ों के पीछे से उभरते लाल सूर्य ने उसका अभिषेक किया और ढेर सारी चिड़ियों ने गीत गा अभिनंदन।

‘सुप्रभात। लगता है रात ठीक से सो नही पाईं।’

भोर के उस मनभावन रूप-सागर में डूबी मीता जान भी न सकी कब आलोक जी उसके पास आ खडे़ हुए थे।

‘जी...। आप बहुत जल्दी उठ गए?’ अपने को सम्हाल मीता ने पूछा था।

‘मैं शायद सोया ही नहीं, इसलिए जागने का सवाल ही नहीं उठता। हां आप जरूर जल्दी जाग गई। क्या हमेशा की अर्ली राइजर हैं?’

‘अम्मा ने रोज जल्दी जगा, ऐसी ही आदत डाल दी है। उनका कहना है देर तक सोने वाले शनीचर होते हैं।’ अम्मा की वो बात याद करती मीता के ओंठ मुस्कान में फैल गए।

‘कल रात आपको क्यों याद किया, जानना चाहेंगी?’

न जाने क्यों मीता का मुंह लाल हो गया था। अनुत्तरित मीता को एक पल ताक, आलोक जी ने कहा थाµ

‘महादेवी वर्मा की कुछ पक्तियाँ पढ़ते-पढ़ते अचानक आप याद आ गईं।’

‘कौन सी पंक्तिया? मीता अपनी उत्सुकता रोक नहीं सकी थी।

‘मैं नीर भरी दुख की बदरी...’ ताज्जुब इसी बात का है कि उन पंक्तियों से आपकी याद क्यों आई? आप का चेहरा तो हमेशा उल्लास और उत्साह से दमकता है फिर ऐसा क्यों हुआ?’

‘शायद इसलिए कि अन्दर से मैं बहुत उदास-दुखी हँू।’

‘आप उदास या दुखी क्यों होंगी मीता जी? उज्ज्वल भविष्य के साथ, आपका वर्तमान भी...’

‘उन बातों को जाने दीजिए। आप यहां पहले भी आ चुके हैं?

‘कई बार, पर लगता है आज ही जान पाया दार्जिलिंग की सुबह कितनी सुन्दर है।’

‘इसके पहले आप कभी जल्दी जागे ही नहीं होंगे इसलिए...।’

‘शायद ठीक कह रही हैं, इसके पहले...। आप यहां के टूरिस्ट स्पाॅट्स देखना चाहेंगी? यूरोप का कार्यक्रम तो एन्ज्वाॅय नहीं कर पाईं, यहां दार्जिलिंग का आनंद उठा लें।’

‘अगर समय मिला तो देख लूंगी... आप परेशान न हों।’

‘गजानन बाबू से कह दूंगा कार अरेंज हो जाएगी। कल की बैठकों में आपकी ज़रूरत नहीं है।’

‘तब तो मैं टाइगर हिल जाना चाहूंगी, सुना है वहां सूर्योदय का दृश्य बहुत अदभुत होता है।’

‘जरूर जाइएगा। बतसिया लूप की रेल में भी जरूर बैठिएगा। मुझे विश्वास है, आपको अच्छा लगेगा।’

‘थैंक्स’।’

‘आइए एक कप गर्म काफ़ी हो जाए? गजानन को मेरे जागने की खबर नहीं हुई वर्ना आज की ये सुहानी सुबह भी उसके नाम करनी पड़ती।’

आलोक जी की बात ख़त्म होते न होते सामने से हड़बड़ाए गजानन बाबू भागते से आते दिखे थे।

‘सर, आज इतनी जल्दी जाग गए? तबियत तो ठीक है, न?

‘एकदम ठीक हँू, पर गजानन जी आप अपनी कोई चर्चा छेड़ें उसके पहले एक कप गर्म काफी लेने देंगे?’ आलोक जी के स्वर मे स्नेह और परिहास का संगम था।

‘अभी लें, सर। आपने अभी तक चाय-काॅफ़ी भी नहीं ली। मुझे माफ़ करेें, देर तक सोता रह गया।’

‘आप ठीेक टाइम से उठे हैं, गजानन बाबू। अगर थोड़ा और पहले जाग जाते तो मुश्किल हो जाती।’

‘थैंक्यू सर।’ कृतज्ञ भाव से सिर झुका गजानन बाबू काॅॅफ़ी का आर्डर देेने अन्दर चले गये।

‘मैं चलती हँू।’

‘अरे वाह, फिर गजानन की काॅफी का क्या होगा? बेचारा मायूस हो जाएगा, उस पर तो दया कीजिए।’

आलोेक जी की नाटकीय मुद्रा पर मीता हंस पड़ी। तेजी से आते गजानन बाबू के साथ वेटर के हाथ में काॅफ़ी की टेª थी। लाॅन में पड़ी टेबिल पर ट्रे रख, वेटर ने काफी का मग आलोक जी की ओर बढ़ाया था।

‘मैडम को दीजिए।’ कहते आलोक जी ने झुककर ट्रे से दूसरा मग उठा लिया।

‘बिस्किट, मैडम...।’

नो थैंक्स। इतनी जल्दी कुछ खाने की आदत नहीं है। बस यही काफ़ी है।

‘बिस्किट तो हल्के होते है, मैडम। अकेली चाय-काॅफ़ी पीना नुक्सानदेह होता है, एसिडिटी हो जाती है।’ गजानन बाबू ने अपनी जानकारी दी।

अब आप समझ सकती हैं, कैसे मुझे चैबीसों घंटे इनकी डाॅक्टरी सलाह पर जीना पड़ता है।’ आलोक जी ने विवशता जताई।

‘ठीक ही तो है। आपके व्यस्त जीवन में बहुत जरूरी है कोई आपकी ठीक देखभाल करता रहे।’

मीता की सहज रूप में कही बात पर गजानन बाबू और आलोक जी जैसे दोनों ही अस्थिर से हो उठे थे। आलोक जी कप रख उठ खड़े हुए।

‘थैंक्स फ़ाॅर दि कम्पनी। गजानन जी, चलें आज का काम शुरू करें।’

‘यस सर।’

मीता से आंखे चुराते से गजानन बाबू आलोक जी के पीछे-पीछे चल दिये। विस्मित मीता उनकी पीठ ताकती रह गई।

दिन में चहकते नवीन ने आकर चैंकाया थाµ

‘वाउ... ग्रेट न्यूज फाॅर मिस मीता।’

‘क्या हुआ? बड़े खुश नजर आ रहे हो?

‘बात ही ऐसी है, सुनोगी तो उछल पड़ोगी... गजानन बाबू ने हमारे लिए गाड़ी भेजी है। दार्जिलिंग के टूरिस्ट स्पाॅट देखने जाने के लिए हम फ्री हैं।’

‘मेरा मूड नहीं है, तुम चले जाओ नवीन।’

‘कमाल करती है, अगर आप न गई तो हमारा मूड खराब हो जाएगा। अब जल्दी उठिए, मैडम, देर हो रही है। बाकी सीनियर आराम फ़र्मा रहे हैं, हम दोनों ही चल सकते है।’

नवीन कभी बडे़ अपनेपन से मीता को तुम पुकार लेता तो कभी आप कह, अपनी नाराज़गी ज़ाहिर करता।

बेमन से मीता को उठना पड़ा था। बतसिया लूप की टेªन में बैठी मीता को आलोक जी की बात याद आ रही थीµउन्होंने कैसे जान लिया उसे उस छोटी सी रेलगाड़ी की यात्रा में बहुत आनंद आएगा।

माल की छोटी-छोटी दुकानों में विदेशी पर्यटकों की भीड़ थी। उस चैरस जमीन के टुकड़े पर खुशी बिखरी पड़ी थी। पर्यटक खुशी के रंग में रंगे, एकसार हो गए थे।

‘कुछ खरीदना नहीं है, मीता जी?’

‘क्या खरीदूं?।’

‘ये कहिए, क्या न खरीदूं। मेरा तो जी चाहता है सब कुछ खरीद ले जाऊँ।’

‘जी चाहने से ही तो सब कुछ नहीं हो जाता नवीन?’

‘हमेशा अपनी विवशता का रोना-रोते रहना ज़रूरी है क्या? कभी तो हंसा करो।’

‘तुम नहीं जानते...’

‘क्या नहीं जानता? यही न कि घर के सारे दायित्व आप निभा रही हैं, पर क्या इस तरह की लड़की आप अकेली ही हैं? हर घर में मज़बूरी का जीवन जीता, कोई न कोई ज़रूर मिलेगा। मेरे बारे में कितना जानती हैं, आप?’

नवीन के उस आक्रोश पर मीता अवाक रह गई थी। शायद उससे इस तरह बोलने का नवीन का पहला अवसर था। पनिआई आँखें चुराती मीता, माल से नीचे नेपाली मार्केट की ओर उतरने लगी थी।

‘आई एम साॅरी, मुझे माफ़ कर दो। तुम्हारा दिल दुखाने का मेरा कतई इरादा नहीं था।’

‘इट्स ओ.के.! तुमने ठीक ही कहा मैं व्यर्थ ही सबका मूड खराब कर देती हूँ।’

‘ये तो नाराज़गी वाली बात हुई। चलो इसी बात पर मूरी ओर से एक आइक्रीम हो जाए। शायद आइसक्रीम से गुस्सर ठंडा हो जाए।’

इस सर्दी में आइसक्रीम? तुम मुझे नीरज की याद दिला जाते हो, वो भी ऐसे ही लड़ाई करने के बाद सौदा करता है।’

‘नीरज कौन’

‘मेरा भाई। हम दोनों खूब झगड़ते थे और बाद में वह कैडबरीज या आइसक्रीम खिला, अपनी ग़लती मान लेता था।’

नवीन जैसे चुप सा पड़ गया था। उसके मुंह के भाव पढ़ पाना कठिन था।

‘क्या हुआ नवीन? क्या आइसक्रीम की बात टालना चाहते हो?’

‘नहीं वैसा कोई इरादा नहीं है। मैं जो कहता हूँ उसे पूरा जरूर करता हूँ। चलो उस पाॅर्लर में चलते हैं।’

दोनों माल के दाहिने कोने पर बने पाॅर्लर की ओर बढ़े चले थे। सामने गर्म दोसे बन रहे थे।

‘नवीन आइसक्रीम के पहले एक-एक दोसा हो जाए।’

‘साॅरी, अपनी जेब एक ही चीज का खर्चा उठा सकती है, चुन लो।’

‘क्यों क्या दोसा मैं नहीं खिला सकती? आओ दोसा मेरी ओर से चलेगा।’

‘एक लड़की से खर्च कराना हमारी संस्कृति नहीं, वह भी अपनी छोटी बहन से। चलो आज घाटा ही सही।’

‘तुमने मुझे बहिन माना है, नवीन?’

‘क्यों तुम्हारे भाई लायक गुण नहीं हैं मुझमें?’ नवीन गम्भीर था।

ओह नवीन, तुम्हारे साथ हमेशा अपने को सुरक्षित पाती रही हूँµशायद हमेशा यही एहसास हुआ मेरे साथ मेरा बड़ा भाई है। ‘मीता का गला भर सा आया था।

‘फिर वही भावुकता, तुम लड़कियां भी बस। या तो लड़ोगी या रोओगी। इसी चक्कर में दोसा ठंडा हो जाएगा और आइसक्रीम पिघल जाएगी।’

मीता हंस पड़ी थी। मन जैसे फूल सा हल्का हो आया था। नवीन में हमेशा उसने भाई पाया,ष्शायद इसीलिए वह उसके साथ इतनी सहज रहती थी।

‘कल सुबह टाइगर-हिल ज़रूर चलना है, जाग सकोगे न? सुबह चार बजे पहुंचने के लिए तीन बजे चलना पडे़गा।’

‘मुझे नहीं जाना है। इतनी सर्दी में मेरा क्या दिमाग खराब हुआ है जो चार बजे कांपते हुए सूर्योदय देखने जाऊँ?’

‘ठीक है मत जाओ। अकेले ही जाउंगी, पर बाद में पछताओगे।’

‘पछताना मेंरी आदत में नही। जो बीत गई, सो बात गई।’

उस रात मीता को बहुत मीठी नींद आई थी, पर सोने के पहले ये बात दिमाग में जरूर आईµआलोक जी ने महादेवी वर्मा की उन भावुक पंक्तियों के साथ उसे याद किया था और उसने क्या अंट-संट सोच डाला था। रजाई ऊपर तक खींच, मानो उसने अपनी शर्म छिपाई थी।

दो बजे अलार्म की कर्कश आबाज़ ने मीता को मीठी नींद से जगाया था। रात में ही गजानन बाबू ने कार का इंतजाम कर दिया था।

ठीक ढ़ाई बजे चलकर चार बजे टाइगर हिल पहुंचना होगा, वर्ना सूर्योदय का दृश्य नहीं देख पांएगी, मैडम।’

‘ठीक है मैं तैयार रहूँगी।’ उत्साहित मीता ने यह भी जानने की कोशिश नहीं की थी कि उसके साथ कोई जा भी रहा था या नहीं?’

लांग कोट पहिनना उसे कभी पंसद नहीं था, पर सुबह की बर्फीली हवा की चुनौती उससे ही झेली जा सकती थी। सिर पर स्कार्फ, बांध, मीता नीचे रिसेप्शन पर उतर आई थी।

लांउज में गजानन बाबू उसकी प्रतीक्षा कर रहे थे।

‘वाह मैडम, मान गया। आप सचमुच धुन की पक्की हैं, वर्ना इस समय रज़ाई से बाहर आ पाना क्या संभव है?’

‘आप भी तो उठे हैं, गजानन जी, क्या आप भी चल रहे है?’

मंत्री जी के साथ जाना तो मेरी मजबूरी ठहरी मैडम।’

‘क्या मंत्रीजी भी जा रहे हैं?’

‘बस आपका इंतजार था। उन्हें अभी खबर करता हँू। ये लीजिए शांति बाबू और नागेन्द्र जी भी आ गए।’

ए.एस.डी. और प्रोड्यूसर के साथ नवीन नहीं था। जरूर वह गहरी नींद में सो रहा था, पर आलोक जी जैसा व्यस्त आदमी साइट-सीइंग के लिए समय व्यर्थ करे। मीता को ताज्जुब हो रहा था।

कुर्ते-पजामे के साथ शाल ओढ़े आलोक जी के चेहरे पर ताज़गी थी ए.एस.डी., प्रोड्यूसर ने श्र(ापूर्वक अभिवादन किया था। मीता ने शायद नमस्ते के लिए हाथ उठाए भर थे।

‘हेलो। सब चलने को तैयार हैं... चलें गजानन?’

‘आइए सर, गाड़ी तैयार है। मैडम आप भी आएं। हम लोग दूसरी गाड़ी में आते हैं। गर्म चाय का थर्मस लेना है।’

‘चलिए।’ मीता को हाथ से आगे बढ़ने का संकेत करते आलोक जी चल दिये थे।

कार के बन्द शीशों के बीच आलोक जी के सानिन्घ्य से मीता को गर्मी सी लगन लगी थी। आलोक जी ने सीट के पीछे सिर टिका आंखे मुंद ली थी।

करीब एक-डेढ़ घ्ंाटे बाद, कार टाइगर हिल पहुंच गई थी।

गजानन जी की कार पांच-सात मिनट बाद आ पहुंची थी।

‘सर, आपने सिक्यूरिटी नहीं लाने दी है। कहीं किसी ने पहिचान लिया तो?’

‘कुछ नहीं होगा, गजानन। मीता जी मेरे साथ चलेंगी, किसी को आभास भी नहीं होगा। यही आनंद तो मैं भूल गया हूँ, गजानन। अपने आप में मस्त, दूर तक पहिचाना न जाना।’

‘मीताजी प्लीज, आप सर के साथ ही रहें, लोग समझेंगे कोई कपॅल सूर्याेदय देखने आया है। जो मैंने कहा उसे माइंड न करें, यह जरूरी है... इसीलिए... प्लीज...’

शर्म से मीता के कान की लवें तक लाल हो उठी थीं। काश््ा वह इस बात को पहले जान पाती तो, भला यहां इस तरह आलोक जी की रक्षिका बन आती? पर अब चारा ही क्या था।

सूर्योदय की प्रर्तीक्षा में खडे़ ढे़र सारे लोगों से जरा हटकर मीता और आलोक जी खड़े थे। गजानन ने काफी का कप जैसे ही पेश किया, आलोक जी झुंझला उठे थे।

‘कभी तो मुझे भी आम आदमी की तरह एन्ज्वाॅय करने का अधिकार होना चाहिए यहां भी वही वी.आई.पी. ट्रीटमेंट। आइ एक फ़ेड-अप।’

‘साॅरी, सर। आपकी उठते ही काॅफी की आदत है, इसलिए...’

‘लाइए इस समय सूर्योदय के साथ गर्म-गर्म काॅॅफी से आनन्द दुगना हो जाएगा।’ मीता ने हाथ बढ़ा काॅफ़ी का मग थाम लिया। गजानन बाबू का मुख चमक उठा।

‘आप बहुत उदार हैं, मीता जी। साॅरी गजानन।’ आलोक जी हल्के से मुस्करा दिये।

पहाड़ों के पीछे से उगता लाल सूर्य देखना, एक अभूतपूर्व अनुभव था।

‘कितना अद्भुत कितना सुन्दर, है न?’ मीता के चेहरे पर लाल रश्मियां प्रतिबिम्बित थीं।

‘हां, सचमुच बहूत ही अपूर्व और अद्भुत है। मीता के चेहरे पर आलोक जी की दृष्टि गड़ सी गई थी।’

‘थैंक्स। आपके कारण ये सब देख सका वर्ना...।’ आलोक जी ने अपना बाक्य अधूरा छोड़ दिया था।

वापिस आते आलोक जी पूरे समय मौन ही रहे थे।

मीता ने नवीन को चिढ़ाया थाµ

‘इतना सुन्दर दृश्य देख पाना, सबका सौभाग्य नहीं होता। कुंए के पास आकर प्यासा लौटता, तुम्हें ही देखा है।’

‘चलो मेंरी जगह तुमने तो उस दृश्य को आंखांे में कैद कर लिया है, न? तुम्हारी आंखों की चमक से उसकी सुन्दरता की कल्पना कर सकता हूँ।’

‘आलोक जी भी मुग्ध थे...।’

‘क्या आलोक जी भी गए थे।’

‘हां... आं... सब तुम्हारे जैसे आलसी थोड़े हैं कि एक दिन की नींद भी सैक्रीफाइस न कर सकें।’

‘ताज्जूब है। शायद जिंदगी में पहली बार उन्होंने इस तरह के फालतू काम के लिए अपना टाइम वेस्ट किया होगा, पर क्यों?’

‘तुम तो ऐसे बोल रहे हो जैसे उनका पर्सनल बायोडाटा तुम्हारे पास हो।’

‘ऐनी हाओ, ये आलोक जी तुम्हें कुछ ज़्यादा ही इम्पोंर्टेंस नहीं दे रहे हैं?’

‘मुझे तो नहीं लगता।’

‘अगर लगे, तो बी केयरफुल। इन लोगों से दूरी ही भली।’

‘ओ.के. बिग ब्रदर, और कोई सलाह?’

दोनों हंस पड़े।

दरर्जिलिंग से वापिस लौट, मीता अपनी पुरानी दिनचर्या में व्यस्त हो गई थी। उसके पीछे अम्मा और आरती के पत्र आए थे। घर न पहुंचने की अम्मा और आरती दोनों की ही शिकायत थी। उससे न मिल पाने की बजह से नीरज भी उदास रहा। दिल्ली में नीरज की दो महीने की ट्रेनिंग हैं, उसके बाद वह मीता के पास पहुचेगा। आरती के एक्जाम्स के लिए शुभकामना-कार्ड भी नहीं भेज सकी थीं। शाम को उसे लम्बा सा पत्र लिखने का निर्णय ले, मीता ने काम शुरू किया था।

पिछले दो दिनों से अलका दी के न आने से मीता चिन्तित हो उठी।

क्या बात है नवीन, अलका दी नहीं दिखाई दे रही हैं। कहीं टूर पर गई हैं क्या?’

‘शायद बीमार हैं, एक सप्ताह की छुट्टी की ऐप्लीकेशन आई है।’

‘क्या हुआ?’

‘पता नहीं, अपने बारे में उन्हें कभी बात करते देखा है क्या?’

‘उनका घर कहंा है?’

‘वो भी पता नहीं, पर शायद रामदीन से पता लग जाए, आफ़िस का सबसे पुराना मेसेंजर है, न।’

रामदीन के बताए पते पर पहुचने में मीता को काफी मुश्किल उठानी पड़ी थी। सकरी गली से पहुंच जिस घर का जीर्णद्वार खटखटाया, वह उस घर की हालत का परिचायक था। दरवाजा एक सात-आठ वर्ष की लड़की ने खोला था।

‘किससे मिलना है आंटी?’

‘अलका जी हैं?’

‘कौन मम्मी?’

‘कौन है दिव्या, किससे बातें कर रहे है?’ अन्दर से अलका दी की आवाज आई थी।

‘देखो न मम्मी, ये कौन आंटी आई हैं?’

‘कौन हैं?’ कहती अलका दी बाहर आ गई थी।

‘अरे मीता... यहां...?’

आप दो दिनों से नहीं आ रही थीं पता लगा, बीमार हैं सो देखने चली आई।’ अलका दी को उस बच्ची द्वारा मम्मी पुकारे जाने की बात ने मीता को उलझन में डाल दिया था।

‘यहां का पता रामदीन ने बताया होगा?’

‘उनके अलावा और कोई आपका पता कहां जानता है अलका दी।’

उसने भी तुझे बता दिया, वर्ना और किसी को वह बताने वाला नहीं। आओ, मीता इधर ही बैठोगी या आंगन में चलें। शाम को गर्मियों में आंगन अच्छा रहता है।,

‘तो चलिए वहीं बैठा जाए।’

‘दिव्या, ये तेरी मीता आंटी हैं, इन्हें क्या खिलाया जाए?’

‘टाॅफ़ी दूं मम्मी?’ बच्ची की भोली बात पर दोनों हंस पड़ी थीं।

‘हमे तो पता ही नहीं था आप यहां रहती हैं, वर्ना आपके लिए ढ़ेर सी टाॅफ़ी जरूर लाते।’ मीता ने प्यार से कहा।

‘इसे देख ताज्जुब में पड़ गई न?

‘शायद...।’

‘मेरी बेटी है।’

‘पर आपने कभी चर्चा नहीं की?’

‘बहुत सी बातें हैं मीता, किस-किस की चर्चा की जाए। वैसे लोगों ने मेरी जितनी लम्बी कहानी सुनाई होगी, उससे छोटी ही है।’

आपके बारे में मैंने कभी लोगों से कुछ नहीं जानना चाहा, अलका दी। अगर किसी ने कोशिश भी की तो वहीं रोक दिया, पर आज सब कुछ जान पाने की उत्सुकता ज़रूर जाग गई है।

आपके जीवन में जरूर कुछ अनहोना घटा है, यह तो समझती थी, पर क्या हुआ, नहीं जान सकी।’

‘सुरमा।’

अलका दी की आवाज पर एक आदिवासी युवती कमरे में आई थी।

‘सुरमा, इन दीदी के लिए चाय पिलाएगी? खाना तो तैयार है न?’

‘अभी लाई, दीदी। खाना जब कहें लगा दूं।’

‘आप बेकार ही तकल्लुफ कर रही हैं अलका दी। अभी भरपेट खाकर निकली थी। सोचा छुट्टी का दिन आपके साथ ही गुजारूं।’

‘बड़ी बहिन के साथ पूरे दिन रहने के लिए घर से खाना खाकर आना होता है, मीता?’

‘सोचा, आप बीमार हैं असुविधा न हो, बस इसीलिए वर्ना...।’

‘अच्छा-अच्छा जान गई। अपनी अलका दी का बड़ा ख्याल है न तुझे। सुरमा, तू हमें चाय देकर, बेबी को खाना खिला दे।’

‘नहीं, मम्मी हम आपके साथ खाना खाएंगे।’ दिव्या ठुनक गई थी।

‘अरे वाह! हमारी बेटी इतनी जल्दी भूल गई, आज तुम्हें शीला आंटी ने बुलाया है, न? खाना खाकर आराम नहीं करोगी तो वहां मूवी देखते-देखते नींद आ जाएगी।’

‘ठीक है, मम्मी। तुम आंटी के साथ खा लेना। बाॅय, आंटी।’ दिव्या का चेहरा चमक उठा था।’

‘बड़ी प्यारी बच्ची हैं।’

‘काश्, अपना सा उजला भाग्य भी साथ लाती।’ अलका दी ने उसांस ली थी

‘आपने कैसे जाना, उसकी भाग्य-भविष्यदृष्टा तो आप हैं नहीं। भगवान उसे सारे सुख देंगे।’ मीता ने जैसे तसल्ली सी दी थी।

‘जन्म के पहले ही ये अपना भाग्य, लिखा लाई थी, मीता।तेरी ही तरह मुझे भी मजवूरी में नौकरी करनी पड़ी थी। उम्र के उस मोड़ पर हर लड़की मोहक लगती है, मैं कुछ ज्यादा ही आकर्षक थी। साथ काम करने वालों की लोलुप, शरीर-बींधती दृष्टियां आसानी से सह पाना कठिन लगता, पर मजबूरी मेरी ही थी। उन जाड़ों में शाम कितनी जल्दी गहरी हो जाती थी, जानती है न?’

‘कौन सी शाम की बात कह रही हैं, अलका,दी?’

‘एक काली शाम थी वो। काम की क्वालिटी बढ़िया हो इसके लिए मैं खुद एडिटिंग के लिए बैठती थी, काम करते कब सब लोग घर चले गए, पता ही नहीं लगा। अचानक एडिटिंग कर रहे नरेश ने काम बन्द कर, मेरे कंधे पर हाथ धर कहा थाµ

‘कब तक काम कराएंगी, मिस, भूख लग आई हैµइतनी देर काम करने का इनाम मिलना चाहिए।’

कंधे पर नरेश के हाथ के बढ़ते दबाव से मैं घबरा गई थी। हल्के से उसका हाथ हटाने की कोशिश की तो उसने दोनों हाथों को मेरे चारों ओर लपेट मुझे उपने सीने से जकड़ लिया था। डर से मेरी बुरी हालत थी। अपने को छुड़ाने के प्रयास में मैं चीखती जा रही थी। तभी पीछे से किसी ने आकर नरेश को खींच, एक ओर कर दिया था।

‘ये क्या तमाशा है, आई विल ससपंेड यू।’ सीनियर प्रोड्यूसर नवीन्द्र नाथ को देख, मैं रो पड़ी थी।

‘घबराइए नहीं। चलिए बहुत देर हो गई है, आपको मेरी गाड़ी घर पहंुचा देगी। और मिस्टर नरेश, मीट मी इन माई आफिस। मैं इंतजार कर रहा हँू।

‘थैंक्यू सर।’ आंसुओ के बीच बस उतना ही कह सकी थी।

‘इट्स ओ.के. डोंट बी अपसेट। आगे से कोई प्रॅाब्लेम आए, सीधे मेरे पास चली आना। अब ये आंसू पोंछ डालो वर्ना घर के लोग परेशान होंगे।’

‘बड़े प्यार से अपने रूमाल से जब उन्होंने मेरे आँसू पोंछे तो मुझे उस स्नेह भरे स्पर्श में बड़े भाई के हाथ के स्पर्श सा अनुभव हुआ था, मीता।

‘फिर क्या हुआ, अलका दी?’

अगले दिन नरेश ने आकर माफ़ी मांगी थी। नवीन्द्र नाथ जी ने मुझे अपने कमरे में बुलाकर कहा थाµ

‘वैसे तो मैं नरेश को आसानी से ससपेंड कर सकता हँू, मैं उस घटना का चश्मदीद गवाह हँू, पर इसमें तुम्हारी बदनामी हो सकती हैं। लोग हमेशा लड़की को ही दोष देते हैं। एक बार इस तरह की घटना की शिकार हुई लड़की पर सब आदमी शिकारी नजर रखने लगते हैं, कब चांस मिले और... खैर वो सब छोड़ो। इसीलिए मैंने उसे चेतावनी देकर, तुमसे मांफ़ी मांगने को कहा था। अगर तुम उसे माफी न देना चाहो तो मैं उस पर कोई और ऐक्शन ले सकता हँू।

‘नहीं सर, आपने जो कहा वह ठीेक है। मैं भी नहीं चाहती वो बात कहीं बाहर जाए। थैंक्यू सर, आपकी हमेशा आभारी रहूँगी।’

‘फिर वही तकल्लुफ। मुझे अपना ही समझो, अलका। बाई दि वे, तुम्हारे घर में और कौन-कौन है?’

‘माँ, एक छोटी बहिन और एक छोटा भाई... बस।’

‘पिता...?’

‘पिता जी का पिछले साल स्वर्गवास हो गया। बहुत लम्बी बीमारी का कष्ट उन्हें झेलना पड़ा था, सर। मत्यू के तीन वर्षो पूर्व से उनका आफ़िस जाना बन्द हो गया था।’

‘ओह, तुम सबको बहुत कष्ट उठाना पड़ा होगा, मैं समझ सकता हँू। मेरे पिताजी भी हमे बचपन में ही छोड़ गए थे। तुम मुझझे कोई संकोच नहीं रखना, अलका। अगर तुम्हारे किसी काम आ सका, तो अपने को भाग्यशाली मानूंगा।’

उस दिन के बाद से अनजाने ही मैं उनके निकट होती गई थी। लगता था वे मेरी हर तकलीफ़ सिर्फ समझते ही नहीं बल्कि भोगते थे। मुझे कभी उदास नहीं होने देते थे। पर एक बात जरूर खलती थी, उन्होंने कभी मुझे अपने घर पर आने का निमंत्रण नहीं दिया। एक बार मैंने ही कहा थाµ

‘आपके साथ भाभी जी से मिलना चाहती हँू, कब ले चलेंगे?’

‘उनसे मिलने के लिए तो प्रतीक्षा करनी होगी...।’

‘मतलब, वो कहीं बाहर गई हुई है?’

‘क्या कहँू, अलका। सच तो यह है जिस आदमी की जिंदगी में दुख आ जाए तो वहां से वो हटने का नाम ही नही लेता। मेरी पत्नी को गहस्थ जीवन से वैराग्य सा हो गया है। बहुत समझाया पर घरबार बच्चों का मोह छोड़ हरिद्वार जा बसी हैं। अपने माता-पिता के गुरू के आश्रम में जीवन काट रही है और यहां उसके बिना बच्चे और मैं अनाथ हो गया हँू, अलका...।’ नवीन्द्र जी का स्वर रूंध गया था।

‘इस उम्र में वैराग्य का कोई कारण तो रहा होगा, सर?’

‘बात कहने में भी संकोच होता है बचपन से उसके घर में इन गुरूजी का आना-जाना था, न जाने उन्होंने कैसा वशीकरण मंत्र पढ़ा कि उसके पीछे दीवानी हो गई।’

‘ऐसा भी संभव है क्या? पति न सही बच्चों का मोह छोड़ पाना क्या स्त्री को आसान होता है।’

‘यही बात तो समझ में नही आती, अलका। बेचारे बच्चे मां के रहते, बिन मां के हो गए हैं। बड़ी लड़की को होस्टेल भेज दिया, अब इस वर्ष से छोटा बेटा भी नेतरहाट चला गया। एकदम अकेला छूट गया हूँ मैं, अलका...।’

अलका का मन उनके प्रति भीग उठा। सब कुछ पाकर भी इन्सान कितना असहाय हो सकता है। नवीन्द्र जी के लिए अलका के मन मे ढे़र सा नेह उमड़ आया था।

‘ऐसा क्यों सोचते हैं, हम सब भी तो आपके हैं।’

‘सच कहती हो, अलका? ओह। अलका ये बात कहकर तुमने मुझे नया जीवन दे दिया। मैं तुम्हारा कितना आभारी हूँ।

अलका के मस्तक पर निःसंकोच उन्होने चुम्बन दे, कृतज्ञता ज्ञापित की थी। अलका ने भी उसका अर्थ उन्यथा कहां लिया था। उसके बाद नवीन्द्र जी का अलका के घर आना-जाना शुरू हो गया था। ड्यूटी के बाद अलका को उसके घर डाॅप करना उनकी दिनचर्या में शामिल हो गया था।

अलका की मां, भाई-बहिन भी उन्हें खूब सम्मान देते। जल्दी वापिस लौटने की बात पर अलका रोक लेतीµ

‘यहीं खाना खाकर जाइए। वहां नौकर के हाथ का कच्चा-पक्का खाना खाते हैं, यहां मां का पकाया खाकर देखिए।’

‘सच मैं कितना भाग्यशाली हूँ। मुझे यहां अपना परिवार मिल गया है।’

नवीन्द्र जी आराम से देर रात तक बैठे बतियाते रहते। भाई-बहिन भी अब अधिकारपूर्वक उनसे अपनी फर्माइशें करने लगे थे। ऐसे नवीन्द्र के साथ जब एक कार्यक्रम की कवरेज के लिए अलका को दूसरे शहर जाने के लिए कहा गया तो घर में किसी को भी आपत्ति का सबाल ही नहीं उठता था। अनहोनी वहीं घटी थीµ

देर रात प्रोग्राम कवरेज के बाद डिनर से जब लौटी तो साथ में नवीन्द्र जी ही थे। खाने के पहले शायद ज्यादा ही पी गए थे। होटल पहुंच, अलका के साथ जब उसके कमरे में जाने लगे तो उसने कहा थाµ

‘बहुत रात हो गई है, अब आप अपने कमरे में जाकर आराम करें।’

‘नहीं, में तुम्हारे साथ रहूंगा अलका। थोड़ी देर को अपने पास रहने दो... प्लीज...। इस वक्त बहुत अकेला महसूस कर रहा हूँ बस थोड़ी देर रहने दो।’

उनके कातर स्वर पर अलका पिघल गई थी।

‘ठीक है। पर, थोड़ी देर में जाना पडे़गा।’

कमरे में पहुंच अलका को जबरन पलंग पर बैठा उन्होंने उसकी गोदी में सिर रख दिया था। अलका ने सिर हटाने की कोशिश की तो वे रो पड़े थेµ

‘प्जीज अलका, मुझे मत हटाओ, मैं मर जाऊंगा। तुम्हारे सहारे मैं जी रहा हूँ। आई लव यू अलका...।’

‘ये क्या कह रहे हैं सर? आप होश में नहीं हैं, प्लीज अपने कमरे में जाइए।’

‘मैं पूरे होश में हूँ, अलका, आई लव यू, आई लव यू...।’

अलका पर उनका दबाव बढ़ता गया था और विरोध के बावजूद अलका अवश होती गई थी माथा, गाल, ओंठ सब उनके चुम्बनों से भीग गए थे। अन्ततः अलका अपने पर नियंत्रण न रख सकी थी।

‘वो रात मेरे जीवन की काल-रात्रि थी, मीता। दूसरे दिन सुबह अपने से घृणा हो आई थी, पर नवीन्द्र जी ने बाहों में भर दिलासा दिया थाµ

‘मुझे माफ़ करना, अलका, मैं संयम और विवेक खो बेठा था। विश्वास दिलाता हूँ, हमेशा तुम्हारा रहूँगा।’ बात खत्म करते नवीन्द्र जी ने ललाट पर फिर स्नेह-चिहन अंकित कर दिया था।

उस कवरेज कार्यक्रम के बाद घर लौटी अलका जैसे एकदम बदल चुकी थी। मां उसका उतरा चेहरा देख घबरा गई थीµ

‘क्या बीमार पड़ गई थी, अलका? चेहरा ऐसा बुझा सा क्यों हैं?’

‘शायद थकान है, अम्मा बस इसीलिए...।’

बार-बार नहाकर भी अलका को अपना बदन गन्दा ही लगता रहा। दो कौर मंुह में डाल, सिर तक चादर ओढ़, दिन भर मुंह ढ़ापे पड़ी रही थी।

ये क्या हो गया? जिन्हें अपना गुरूजन जान, सम्मान का पात्र माना था, उनके साथ ऐसा संबंध...छिः... अलका को अपने से घृणा हो आई थी। काश वह प्रतिरोध कर पाती, क्यों वह इतनी कमजोर पड़ गई थी। क्या उसके मन में भी उनके लिए कमजोरी थी? नहीं ऐसा तो वह सोच भी नहीं सकती। कैसे सबसे अपना मुंह छिपाए।

दूसरे दिन अलका कार्यालय नहीं गई थी। अम्मा से वो सब बता पाने का साहस वह बटोर नहीं सकी थी, वे तो पहले ही टूट चुकी हैं। जवान लड़की के साथ जो कुछ हुआ, क्या सह सकेंगी? अकेले उस बोझ को ढ़ोते रहना कैसे होगा? भाई-बहिनों के निष्पाप चेहरे देख अलका अपने को माफ़ नहीं कर पा रही थी।

दूसरे दिन शाम को नवीन्द्र नाथ जी घर आ पहुंचे थे।

‘क्या बात है मांजी, अलका दो दिनों से आफ़िस नहीं आ रही है?’

‘न जाने क्यों सुस्त सी पड़ी है, लाख पूछा जवाब नहीं देती, न जाने क्या हुआ है। तुम्हीं पूछ देखो, बेटा।’

नवीन्द्र जी का अलका के पास भेज, अम्मा उनके भोजन की व्यवस्था के लिए रसोई में घुस गई थीं। भाई-बहिन नवीन्द्र जी की लाई मिठाई खा, होमवर्क में जुट गए थे।

‘कैसी हो, अलका?’

निरूत्तरित अलका ने मुंह अठाकर भी नहीं देखा था। कमरे के हलके प्रकाश में उसका उदास चेहरा और ज्यादा मायूस लग रहा था।

‘मुझसे बहुत नाराज़ हो, अलका? मेंरी ओर नहीं देखोगी? जानती हो, दो दिन से पानी भी गले से नीचे उतार पाना मुश्किल लग रहा है। तुम्हारा अपराधी हूँ, जो चाहो सजा दे दो, पर यूँ मुझसे नाता न तोड़ो।’

अलका के मौन पर दृढ़ शब्दों में नवीन्द्र जी ने कहा थाµ

‘ठीक है अब मत्यु ही मेरा सही दंड है। अपना मुंह तुम्हें कभी नहीं दिखाऊंगा, यही चाहती हो न? मैं जा रहा हूँ, अलका।’

नवीन्द्र जी उठ खड़े हुए थे। अलका ने उनके मुंह पर जैसे मत्यु की छाया पढ़ ली थी। झटके से उठ, अलका ने उनकी राह रोक ली थीµ

‘आप ऐसा नहीं करेंगे। आपको जीवित रहना होगा।’

‘किसके लिए, अलका?मेरे जीवन की किसे जरूरत है। तुम्हारा अपराधी बन जाने से मौत अच्छी। मुझे मत रोको, अलका, वर्ना मैं कमजोर पड़ जाऊंगा।’

‘नहीं मैं आपको नहीं जाने दूँगी, मेरे लिए जीना पड़ेगा आपको।’

अलका के कांपते अधरों से न जाने वो बात कैसे निकली थी, शायद पिछले दो दिनों से जिस उधेड़बुन में वह थी, उसका यही एकमात्र समाधान शेष था। भारतीय परिवार में पत्नी-बढ़ी अलका के मन में एक ही बात सर्वाेपरि थी-शरीर का स्वामी केवल पति ही हो सकता है। दूसरे की भोग्या लड़की की कहीं इज्ज़त नहीं। अब जब नवीन्द्र जी उसे स्वयं स्वीकार कर रहे थे, तो दूसरा विकल्प क्या शेष था? माना कि वे विवाहित, दो बच्चों के पिता थे, पर उनके जीवन में पत्नी का स्थान तो रिक्त था। वह उनकी पत्नी ही नहीं, बच्चों की मां बनकर दिखाएगी।

अलका के मन का बोझ उतर सा गया था। उस रात नवीन्द्र जी काफी प्रसन्न घर लौटे थे।

अलका और नवीन्द्र जी के संबंध घनिष्ठ होते गए थे। आफ़िस में लोगों ने अलका से अगर कुछ कहना चाहा तो उसने कान नहीं दिए। नवीन्द्र जी ने उसे समझा रखा था कि आफ़िस के लोग उनसे जलते हैं। उनकी खुशी से उन्हें बैर है। प्रायः काम करने के बाद अलका नवीन्द्र जी के कमरे में ही जा बैठती थी। दोनों को साथ आते-जाते देख, पीठ पीछे फब्तियां कसी जाती, पर दोनों ने उन बातों की कभी पर्वाह नहीं की। अब वे अलका के घर भी उसके कमरे में सीधे चले जाते। उनके निःसकोच कमरे में जाने पर अम्मा ने आपत्ति की थीµ

‘इस तरह बिना पूछे तुम्हारे कमरे में जाना क्या ठीक है? तुम मना क्यों नहीं करती?’

‘तुम ही मना कर दो, अम्मा। मुझे संकोच होता है।’

‘इधर तू आॅफ़िस से भी बहुत देर में आती है। लोगों को तो मौका चाहिए, एक बार बदनाम हो गई तो कहीं की नहीं रहेगी।’

अलका ने नवीन्द्र जी से जब वो सब बताया तो वे हंस पड़े थे।

‘अम्मा पुराने विचारों की ठहरी, मैं उन्हें समझा दूंगा।’

‘पर हमें कोई निर्णय तो लेना ही होगा, कहीं कुछ गड़बड़ हो गई तो...।’ अलका की जुबांन लड़खड़ा गई थी।

‘गड़बड़ कैसी? तुम प्रिकाॅशन तो लेती हो न?’

‘कभी कभी उसका मौका ही कहां देते हो...जब-तबऋजहां मौका मिला नहीं कि...।’

‘देखो अलका, जब तक मेरी पत्नी से कानूनन संबंध-विच्छेद नहीं हो जाता, हमे किसी परेशानी में नहीं पड़ना है, समझी।’ नवीन्द्र जी कुछ नाराज़ से दिख रहे थे।

‘संबधं-विच्छेद के लिए आपने कहीं पहल की है? अगर पति-पत्नी एक-दो वर्षो से अलग रह रहे हैं तो कानूनन तलाक मिल जाता है।’

‘लगता है आजकल वकीलोें से बात कर रही हो, मुझे भी चिन्ता है, मैं देख लूंगा, तुम्हें इस बारे मेें किसी से चर्चा नहीं करनी है।’

उस दिन की बात अलका के मन में गड़ सी गई थी। कहींे वह बहाना तो नहीं कर रहे हैं। पिछले कुछ दिनों से सुबह-सुबह उसे मतली सी आने लगी थी। अम्मा के दिए चूरन या घरेलू नुस्खों से कोई फायदा नहीं हो रहा था। डाक्टर ने जब बताया वह मां बनने वाली है तो अलका स्तब्ध रह गई थी।

नवीन्द्र जी ने जब वह बात सुनी तो बेतरह झुंझला उठे।

‘तुम पढ़ी-लिखी लड़की हो, इतनी अक्ल तो होनी चाहिए थी। मैं सरकारी नौकरी में हँूµनौकरी चली गई तो कहीं का नहीं रहूँगा।’

‘अब तो कुछ करना ही पड़ेगा वर्ना मैं कहीं मुंह दिखाने लायक नहीं रहूंगी।’ अलका रो पड़ी थी।

‘उन दिनो अबर्शन अपराघ माना जाता था मीता, स्वयं मैं इसे पाप ले गए। मेरा दुर्भाग्य सफ़ाई के बाद भी कोई अंश बचा रह गया और... मुझे बिन ब्याही मां बनना पड़ा।’

‘नवीन्द्र जी ने विवाह क्यों नहीं किया, अलका दी?’

‘उसने कभी विवाह की बात सोची ही नहीं थी मीता... वह तो आदमखारं शेर से भी ज्यादा ख़ंूख्वार निकला। उसकी सच्चाई जानोगी तो...

‘क्या सचाई थी, अलका दी...।’

‘यही कि उसकी पत्नी सचमुच सती-सावित्री थी। जिस पर वैराग्य का झूठा दोश्लगा, उसने मेरी सहानुुभूति जीती थी। वस्तुतः वह स्त्री अपने मन-मंदिर में उस धूर्त नवीन्द्र नाथ को पति-परमेश्वर रूप में प्रतिष्ठित कर, उसकी पूजा करती थी। पति कभी पाप कर ही नहीं सकता और इस आदमी ने उसकी इसी सिधाई का फ़ायदा उठाया। टी.वी. पर नई लड़कियां आने को उतावली रहती हैं, इसने न जाने कितनों को मसल कर बर्बाद कर डाला था मीता, उन्हीं में से एक मैं अभागिन भी थी।’

‘कैसे वो सब झेल पाई होंगी, अलका दी?’

अम्मा पर तो पहाड़ टूट पड़ा था। छोटे भाई-बहिन टुकुर-टुकुर मेरा मुंह ताकते रह गए थे। अम्मा के दूर के रिश्ते की बहिन ने सहारा दिया था। उनके पास पाँच महीने रह, दिव्या को जनम दिया था। हाथ में महीने भर की बेटी दठाए सीधे केंद्र-निर्देशक के पास पहुंची थी। सारी कहानी सुन, वह चुप रह गए थे।

उन्ही से पता लगा मेरे जाने के बाद ही नवीन्द्र नाथ ने बी.बी.सी. में अपना ट्रांसफ़र करा लिया था। अब वह लंदन में ऐश की जिंदगी जी रहा है। मैंने अधिकारियों को पत्र लिखने चाहे, पर उन बातों का मेरे पास क्या प्रमाण था मीता? डाइरेक्टर साहब भले आदमी थे, मुझे शान्त रहने की सलाह दे, यहां ट्रांसफर कर, दिया।

मेरी बदनामी मेरे साथ हर जगह पहुंच जाती है। चाह कर भी दिव्या को न अनाथालय में दे सकी, न उसे मार सकी, अन्ततः उसकी मां हूं न?

बात समाप्त करती अलका की आंखे भर आई थीं। निःशब्द मीता ने उसके हाथों पर अपनी हथेली धर दी थी।

‘सच अलका दी, आपने बहुत सहा है, पर द्रिव्या का भविष्य क्या होगा?’

‘वही सोच मुझे परेशान करता है मीता, सोचती हूँ इसे अनाथ कहकर किसी बोर्डिगं-हाउस में डाल दूं।’

‘ये क्या समस्या का ठीक समाधान होगा? आप पुनर्विवाह की बात भी तो सोच सकती हैं, अलका दी?’

पुनबर्ववाह? मेरे इस अतीत के साथ भला मुझसे कौन विवाह करेगा, मीता? लड़की का चरित्र ही उसकी सबसे बड़ी पूंजी है, वही खो दी तो क्या शेष रहा? जानती है अम्मा ने मुझसे हमेशा के लिए नाता तोड़ लिया। भाई-बहिन मेरी छाया से भी दूर भागते हैं। कभी उनके लिए मैं ही सब कुछ थी। न जाने कैसे उनके दिन कटते होंगे। मैं उनकी भी अपराधी हूँ, मीता।’

‘अपने को नवीन्द्र जी के हाथों सौंप देना आपकी गलती जरूर थी, पर उस गलती का आपने कम मूल्य तो नहीं चुकाया हैं। गलती का दंड दिव्या को क्यों मिले?’

तुम ठीक कहती हो मीता, मेरे अपराध का दंड दिव्या क्यों भोगे? इसीलिए सोचती हूँ उसके जीवन से मेरा दूर हो जाना ही उसके हित में है। मैं हार चुकी हँू, उसके लिए कुछ कर पाना कैसे संभव होगा, मीता?’

‘अगर अपनी लड़ाई आपने ठीक से लड़ी होती तो आज यह स्थिति नहीं आती अलका दी। और अब भी आप नकरात्मक रूख अपना रही हैं, ये ठीक नहीं है।’

‘क्या ठीक है मीता?’

‘दिव्या को उसके असली पिता से उसका हक दिलवाइए। उसे पिता का नाम मिलना ही चाहिए।’

‘असली पिता के नाम से भी घृणा होती है, मीता। उस बाप के नाम से भी वह अपमानित ही रहेगी।’

‘फिर उसे अपना नाम दीजिए, अलका दी, अगर उतना साहस नहीं तो दूसरा पिता उसे क्यों नहीं मिल सकता? दुनिया में सब नवीन्द्र नाथ ही नहीं हैं। आपने कोशिश की थी अलका दी?’

‘नहीं, कभी नहीं। मुझे आदमी। ज़ात से ही नफ़रत हो गई। अगर किसी ने सहानुभूति जतानी चाही तो उसे दूर झटक दिया?’

‘ऐसा कोई था। अलका दी?’

‘कभी नवीन्द्र नाथ पर मुकदमंे की बात सोची थी, बकील था। वो कभी हम साथ पढ़ते थे। उसने नवीन्द्र नाथ से मेरे अपमान का बदला दिलाने के लिए कसम खाई थी, पर मैंने ही छोड़ दिया। बहुत दिनों तक घर आता रहा, दिव्या से खेलता था...।’

‘फिर?’

‘मैं ट्रान्सफ़र ले, इस अनजान शहर में आ गई।’

‘असका कोई अता-पता भी नही रखा?’

‘क्या होता?’

‘शायद तुम्हारे ज़ख्मों पर वह मरहम रख पाता।’

‘क्या पता वह भी मुझसे मेरी कमज़ोरी का फ़ायदा उठाता।’

‘हमदर्दी भी तो हो सकती थी?’

‘हमदर्दी के नाम से ही चिढ़ हो आती है, मीता।’

‘किसी पर भी विश्वास न कर सकीं तो कैसे जिएंगी, अलका दी।’

‘जी तो रही ही हूँ...।’

‘ये भी कोई जीना है, अलका दी? आज से आप दिव्या की चिन्ता छोड़ दें, उसका दायित्व मैं लेती हूँ।’

‘मीता, हमेशा से तुझमें अपनापन पाती रही। आज दिव्या की जिम्मेवारी की बात कह, तूने मुझो खरीद लिया है। दिव्या तेरे संरक्षण में अपना भविष्य संवार सकेगी विश्वास है।’ प्यार से अलका दी ने मीता को अपने से चिपटा लिया। चाय पीती मीता अचानक कह बैठी थीµ

‘आज समझ में आया, कहीं भी बाहर जाते समय आप मेरे लिए क्यों चिन्तित रहती थीं।’

‘दूध का जला छाछ भी फूंक-फूंक कर पीता है, मीता, फिर तू इतनी भोली है कि हमेशा तुझे देख, अपना अतीत याद आ जाता था।’

‘कल आफ़िस आ रही हैं, अलका दी?’

‘कल तो शायद न आ संकू, आज ही बुखार उतरा है। घर में पडे़-पडे़ जी ऊब जाता था, आज तेरे आने से मन बदल गया।’

‘अब तो अक्सर आकर परेशान करूंगी।’

‘तेरे आने से पेशानी कैसी? बहुत अच्छा लगेगा, मीता।’

घर आकर बहुत देर तक मीता सो नहीं सकी। अलका दी पर बहुत करूणा उमड़ रही थी। वैसी गलती क्यों हो जाती है... काश अलका दी अपने पर नियंत्रण रख सकी होतीं। अम्मा ठीक ही कहती हैंµ विनाश काले-विपरीत बुद्वि।’

वो रात अलका दी के जीवन की काल-रात्रि ही तो बन गई थी।

दो दिन बाद से अलका दी आने लगी थीं। मीता अब उनसे और ज्यादा अपनापन महसूस करने लगी थीं।

‘आपके चले आने पर दिव्या को कौन देखता है, अलका दी?’ उस छोटी लड़की के प्रति मीता के मन में बहत प्यार-दुलार हिलोरें लेता था। बड़ी होने पर उसे जिन समस्याओं का सामना करना होगा, क्या वह झेल सकेगी?’

‘शीला उसे बहुत प्यार करती है। उसकी अपनी बेटी दिव्या की ही उम्र की थी, पति ने उसे घर से लिकाल, बेटी अपने पास रख ली। दिव्या को पाकर अपनी बेटी का गम भुलाती है।’

‘हर जगह वही कानी, औरत का शोषण, उसका अपमान क्यों होता है, अलका दी? चाहे वह अनपढ़ गंवार हो या उच्च वर्गीय शिक्षता... उसकी नियति वही क्यों है?’ ये अनवरत शोषण कब तक चलता रहेगा-कब तक?’

‘पता नहीं...।’

‘पता क्यों नहीं है, अगर आप जैसी स्त्री अपनी हार मान लेगी तो औरों से क्या उम्मीद रखंे? दूरदर्शन पर हम शोषण के विरू( नारी-संघर्ष के प्रभावषाली नाटक दिखाते हैं, परिचर्चाए आयोजित करते हैं और असलियत में खुद शोषण के शिकार बन जाते हैं, क्यों, अलका दी क्यों? क्यों नहीं हम आवाज उठा सकते?’

‘कहने और करने में बहुत फ़र्क है, मीता, तू नहीं समझेगी। जितना ही शोर करेगी उतनी ही ज्यादा बदनामी होगी।’

‘वाह ये भी कोई बात हुई? लंदन में यही भारतीय नारी अपने वहशी पति को जिंदा जलाकर खत्म करने के बाद भी सबकी सहानुभूति पा सकती है, यहां उससे न्याय भी नहीं मांग सकती?’

‘तुझमें इतनी आग भरी है, आज ही जान सकी, मीता। इस आग पर कभी पानी के छींटे मत पड़ने देना।’

अलका दी की बात पर मीता संकोच से भर उठी थी। अपने से उम्र में उतनी बड़ी अलका दी को वह लेक्चार देने चली थी। क्या सोचती होंगी अलका दी।

एक सप्ताह बाद अलका दी ने उसे अपनीे घर बुलाया था।

‘कल छुटटी है, सुबह आ जाना। कल का तेरा पूरा दिन मेरे नाम रहेगा, किसी और को अप्वाइंटमेंट मत दे देना, समझी’

‘ऐसी क्या बात है, अलका दी? क्या दिव्या का जन्म दिन है या...।’

वो सब जब आएगी तभी बताऊंगी।’

‘ये क्या, अलका दी, आप तो पहेलियां बुझाा रही हैं।’

‘सच किसी का जन्मदिन नहीं है, तुझसे कुछ जरूरी बातें करनी हैंµबस।’

दूसरे दिन नौ बजे ही मीता अलका के घर पहुंच गई थी। द्वार एक सौम्य पुरूष ने खोला था।

‘आइए, आप मीता हैं न? अलका जी किचेन में हैं, बुलाता हूँ।

मीता को असमंजस में छोड़, वह अन्दर चले गये। अन्दर से उज्ज्वल मुख के साथ अलका दी आ पहुंची।’

‘ठीक समय पर आ पहुंची, मीता, अभी राहुल जी ने चाय की फ़र्माइश की थी तू भी साथ देने आ गई। मीता, ये मि. राहुल चंद्र, मेरे ही शहर में वकील हैं, राहुल जी ये ही वो मीता है जिसकी वजह से आपको बुलाना पड़ा।’

‘तब तो आपका आभारी हँू, मीता जी, आपकी वजह से अलका ने याद किया वर्ना-।’अपना वाक्य अधूरा छोड़ कर भी जैसे वह बहुत कुछ कह गये थे।

मीता को याद आया अलका दी ने उसे बताया था नवीन्द्र नाथ के साथ हुए हादसे के बाद किसी युवक वकील ने उनके प्रति सहानुभूति जतानी चाही थी, पर अलका दी उसकी सहानुभूति स्वीकार न कर सकी थीं।

‘आपके बारे में पहले सुन चुकी हँू, आज परिचय का सौभाग्य मिला है।’

‘रियली, क्या बताया गया था मेरे बारे में? यही न कि मैं एक ख़ुदगर्ज मौका-परस्त इन्सान हूँ।’

‘छिः ऐसा मैंने कब कहा-मैंने तो-मीता तू ही बता इनकी बात क्या सच है?’

‘अगर इनकी बात सच होती तो क्या आज ये यहां आते, अलका दी?’

‘वाह, वकील तो मैं हूँ और ज़िरह आप कर रही हैं। अभी भी समय है कानून की पढ़ाई पूरी कर डालिए, बहुता यश पाएंगी।’ राहुल जोर से हंस पड़े थे।

‘अम्मा भी यही कहतीं थीं... बहस में मेरा कोई सानी नहीं।’

‘बात पूरी करती मीता ने जीभ दांतो तले दबा ली थी। आत्मप्रंशसा इसे ही तो कहते हैं।’

‘यह लड़की देखने में जिनी भीरू-सीधी दिखती है, वैसी बिल्कुल नहीं है। इसके अन्दर न जाने कितना बड़ा ज्वालामुखी सोया पड़ा है, राहुल।’

अपनी प्रशंसा सुन, मीता संकोच से भर उठी थीµ

‘अब मीता-पुराण छोड़, काम की बात कीजिए, अलका दी। बताइए न क्यों बुलाया है मुझे।’

‘उस दिन तेरी बातों ने मेरे मन में आग लगा दी थी, मीता। सोचकर लगा तू ठीक कहती है। दूसरों को उपदेश दे देना आसान बात है, पर अपने उउपर उसे चरितार्थ करना कितना कठिन है। राहुल जी को सारी बातें लिख भेजी और मेरा सौभाग्य, यह यहां आए हैं।’

‘सौभाग्य..., मेरा है अलका। आपके काम आ सकूंµइससे अच्छी और क्या बात होगी?’ राहुल जी का स्वर भावुक हो उठा था।

‘नवीन्द्र नाथ के खिलाफ में कोर्ट में जा रही हूँ, मीता। दिव्या को उन्हें अपनी बेटी स्वीकार करना ही होगा।’

‘यह हुई न बात। सच अलका दी, आप जरूर जीतेंगी।’

‘जीत या हार, परिणाम क्या होगा नहीं जानती, पर न्याय के लिए आवाज़ ज़रूर उठाउंगी।’

‘जिस काम के लिए आपके अन्तःकरण की स्वीकृति हो, उसे करने में परिणाम की चिंता नहीं करनी चाहिए, अलका जी। मैं आपके साथ इसीलिए हूँ क्योंकि मेरा अन्तःकरण जानता है आपके साथ अन्याय हुआ है।’

राहुल चंद्र के तेजस्वी मुंह को मीता, विस्मय-विमुग्ध निहारती रह गई।

‘आप सचमुच महान हैं, राहुल दा।’

‘राहुल दा, पुकार मुझें इतना ऊंचा उठा दिया मीता, वर्ना मैं अकर्मण्य पुरूष भर हूँµपुरूषोचित दम्भ का प्रतीकµ

‘नहीं-नहीं, आप दूसरों से बहुत अलग हैं, राहुल दा। अब बताइए, हमें क्या करना है?’

‘नवीन्द्र नाथ के खिलाफ़ मुकदमा दायर कर रहा हूँ। आज के युग में इतने परीक्षण संभव हैं कि न चाहते हुए भी दिव्या को उन्हें अपनी पुत्री स्वीकार करना ही पड़ेगा।’

‘अगर उसके बाद उन्होने अलका दी से दिव्या को छीनना चाहा तब?’

‘जिस व्यक्ति ने अपनी पुत्री का अस्तित्व ही नकार दिया, वह उसकी मांग किस आधार पर करेगा? उसके लिए तुम्हें चिन्तित नहीं होना है, अलका, वो मेरा दायित्व रहा।’

‘सच, जिस दिन वह दिव्या को अपनी बेटी स्वीकार लें उस दिन इस लड़की पर लगा कलंक कट जाए।’ अलका दी का स्वर रूआंसा हो आया था।’

‘समझ में नहीं आता स्त्रियंा किस दिशा में सोचती हैं। किसी नीच आदमी का नाम जबरन दिव्या पर थोप, उसका कलंक मिटाने की तो कल्पना भी हास्यास्पद है।’

‘बिना पिता के नाम के वह हमेशा नाजायज़ औलाद बनी रहेगी, राहुलदा।’

‘कोई और व्यक्ति भी तो उसे पिता का नाम दे सकता है...।’

‘ऐसे व्यक्ति तो बस कहानियों में मिलते हैं, राहुल दा।’

‘कहानियों में भी तो इसी जीवन के पात्र जीते हैं, मीता।’

‘आप खोज कर ला सकते हैं एक ऐसा व्यक्ति जो दिव्या को अपनी नाम दे सकें? मीता की बड़ी-बड़ी आंखे राहुल के मुख पर निब( थीं।’

‘इस बात का उत्तर अलका जी से लेना, मीता।’ राहुल गम्भीर हो उठे थे।

उन बातों को अब दोहराने से क्या फ़ायदा...।’ अलका असहज हो उठी थी।

‘अलका दी, आपने जीवन का इतना बड़ा सत्य मुझसे क्यों छिपाया? काश् उस समय आपने विश्वास किया होता...।’

‘ये तो आज भी मुझ पर विश्वास नहीं रखतीं, मीता, वर्ना मेरा प्रस्ताव यूं उपेक्षित न पड़ा रहता...।’

‘क्या मतलब, आपने अभी तक विवाह नहीं किया है, राहुल दा?’

‘विवाह किया था मीता, पर पत्नी मुझे झेल नहीं सकी। विवाह के पहले के अपने संबंध वह तोड़ न सकी। अन्ततः मुझे ही छोड़ना पड़ा।’

‘ये क्या कह रहे हैं, मैंने तो सुना था आपका वैवाहिक जीवन बहुत सुखी है।’ अलका विस्मित थी।’

‘ठीक ही सुना था, शैली को पाकर मैं फूला न समाया था, पर उसने स्पष्ट कह दिया अपना तन-मन वह किसी और को दे चुकी थी...।’

‘बस इसी अपराध के लिए आपने उसका परित्याग कर दिया? कथनी और करनी में बहुत अन्तर होता है, राहुल जी, इसी बल पर आपने मुझसे विवाह का प्रस्ताव रखा था? मैं भी तो विवाह के पहले किसी की भोग्या थी... सब जानते थे?’ अलका का गोरा चेहरा उत्तेजना से लाल हो उठा।

‘हां सब जानते-समझते मैने तुम्हें अपनाना चाहा थाµपूरे मन से। मैं जानता हूँ अगर किसी को सच्चे मन से चाहा जाए तो उससे अलग होना कितना कठिन होता है।, इसीलिए मैंने स्वयं शैली का विवाह उसके पे्रमी राजेश से कराना, अपना दायित्व माना। दोनों बहुत सुखी हैं। मेरे मन ने स्वीकार किया, पिता की जिद का दंड शैली क्यों भोगे, बस स्वयं ही सारी व्यवस्था कर दी।’

‘क्या...? आपने अपनी पत्नी किसी और को सौंप दी, राहुल दा? आपके पुरूष के अहं को चोट नहीं लगी?’

‘नहीं, दोनों को अलग कर पाप का भागी बनने की अपेक्षा दोनों को मिलाकर ज्यादा सुखी हूँ।’

‘ओह राहुल, मुझे क्षमा करो, मैं न जाने क्या कुछ नहीं कह गई तुम इतने महान हो, मैं सोच भी नहीं सकती थी।’ अलका का स्वर भावविह्वल था।

‘राहुल दा, क्या आज भी आप अलका दी को स्वीकार करने का साहस रखते हैं?’

‘दिव्या के साथ अलका को स्वीकार करने को मैं आज भी प्रस्तुत हूँ। प्रस्ताव में मेरा ही स्वार्थ हैµबेटी के साथ एक सुन्दर पत्नी-मित्र भी लूंगा। शायद अलका नहीं जानती इनके कालेज के दिनों से मैं इनका दीवाना हुआ करता था।’

‘छिः इस उम्र में ऐसी बातें करना क्या शोभा देता है?’

‘उम्र की बात कर रही हो तो ज़राष्शीशे में अपना चेहरा देख लीजिए, लाल बहूटी बन गई हैं, आप।’

राहुल और मीता जोर से हंस पडे़ और अलका ने शर्माकर हथेलियों में मुंह छिपा लिया।

‘चलिए अलका दी, इसी बात पर आज स्पेशल लंच हो जाए। राहुल दा, से बाद में ढेर सी मिठाई भी खानी है।’

‘यानी अलका जी के कोर्ट में मेरी अर्जी मंजूर हो गई ?’

नाटकीय मुद्रा में रहुल ने बात कही थी।

‘जी हां, मैं मीता, आज के कोर्ट की जज, श्री राहुल चंद्र के पक्ष में अपना फैसला देती हूँ और जुर्माने के रूप में अलका जी को बिना देर किए आजीवन श्री राहुल चंद्र की कैद में रहने की सज़ा दी जाती है। दि कोर्ट इस एडजन्र्ड फ़ाॅर टुडे।’

‘वाह ये इकतफ़ा निर्णय लेने का अधिकार किसने दिया, मीता?’

‘अरे भई जज हूँ, न्याय-अन्याय का इकतरफा निर्णय और कौन देगा?’

‘काश अलका पहले ही तुम्हारे सामने अपना दिल खोल देती तो फैसले में इतनी देर तो न होती।’

‘छोड़िए राहुल दा, अन्त भला सो सब भला। अब चटपट शादी की तैयारी कर डालिए।’

‘आपका हुक्म सर-आंखों, पहले अपनी अलका दी को तो राजी कीजिए।’

‘वो तो एकदम तैयार हैं, मैं कहूं और वो न माने, असंभव।’

‘कहिए अलका जी, मीता का विश्वास सही है?’

‘किसी पर इतना विश्वास, इतना अधिकार, अकारण ही तो नही हो जाता, राहुल जी।’

‘अब ये जी का चक्कर छोड़ सीधे-सीधे राहुल पुकारिए, अलका दी। बहुत ज़ोरों की भूख लग आई है, जल्दी खाना लगाइए।’

मीता का वो दिन बहुत अच्छा बीता। कोर्ट-मैरिज के लिए एक माह प्रतीक्षा की जानी थी। हंसी-खुशी पूरा दिन बिता, हल्के मन से मीता अपने कमरे में पहुंची थी। अलका दी को कोई इतना चाहता रहा, और वह जान भी न सकीं। खैर अब सब कुछ हो जाएगा। राहुल जी सचमुच अच्छे व्यक्ति हैं। सब पुरूष एक से नहीं होते-यह बात उन्होंने साबित कर दिखाई थी।

कमरे में अम्मा का पत्र आया रखा था। अम्मा को उसके न पहुंचने पर नाराज़गी थी। आरती ने भी ढेर सी शिकायतें लिख भेजी थीं। उसे घर जाना ही होगा। दूसरे दिन छुटटी ले, मीता घर के लिए चल दी थी।

घर पहुंचते ही अम्मा ने लाड़ से बेटी को सीने से चिपका लिया। अपने लिए लाए कपडे़ देख, आरती का मुंह चमका उठा था।

‘अम्मा नीरज कैसा है? मेरे न आने पर नाराज़ हुआ होगा?’

तुझे बहुत याद कर रहा था। कह रहा था एक साल बाद तुझे नौकरी नहीं करने देगा।’ वात्सल्य से अम्मा का मंुह चमक उठा था।

‘तुम्हारे लिए भइया साड़ी लाया है, दीदी।’

नीरज की लाई सूती साड़ी पकड़े, मीता की आंखे भर आई। बचपन में दोनों कितना भी लड़े होंगे, पर अब एक-दूसरे को कितना मिस करते हैं। न जाने किन खर्चों पर कटौती कर नीरज उसके लिए साड़ी लाया होगा।

एक सप्ताह का समय पंख लगा उड़ गया। उतने दिन कितने अच्छे बीते। अम्मा लाड़ में उसे जबरदस्ती एक रोटी ज्यादा खिला देतीं। आरती उसके आगे-पीछे घूमती रहती। अनुपम से मिलना नहीं हो पाया। अम्मा ने बताया था अनपम शहर में रहकर कम्पटीशन में बैठने की तेयारी कर रहा है,

‘भला हो लड़के का जब आता है सार रुके पडे़ काम पूरे कर जाता है। भगवान उसे तरक्की दे।’

‘वाह अम्मा, तुमने सब गड़बड़ कर दिया न? अनुपम भइया ने कहा था मीता दीदी को कुछ मत बताना। दीदी, वह कम्पटीशन में क्वालीफ़ाई कर, तुम्हें सरप्राइज देना चाहते थें, पर अम्मा ने तो... आरती परेशान थी।’

‘ठीक है, मैं उसे कुछ नहीं बताउंगी, पर दीदी के जाते ही अनुपम भइया, दीदी से ज्यादा अपने हो गए?’ मीता ने आरती को चिढ़ाया था।

‘दीदी... तुम तो सबसे ऊपर हो।’ आरती मीता से चिपट गई।

‘दीदी इस बार मैं भी तुम्हारे साथ चलूंगी। मेरी लम्बी छुटिटयां हैं।’

‘तू चली जाएगी तो मैं जो अकेली रह जाऊंगी। कुछ दिन सबर कर, नीरज की नौकरी लगते ही हम सब एक साथ रहेंगे।’

‘अम्मा का भविष्य नीरज की नौकरी के साथ बंधा था। भारी मन से मीता काम पर वापिस लौटी थी।’

ड्यूटी ज्वाइन करते ही स्टेशन डाइरेक्टर ने सूचना दी थीµ

‘अच्छा हुआ आप आ गई मिस वर्मा, मुझे तो डर था आप कहीं छुटटी न बढ़ा लें।’

‘कोई खास काम था, सर?’

‘पन्द्रह फरवरी से धर्म-निरपेक्ष सम्मेलन आॅरगेनाइज हो रहा है। आलोक जी के मीटिंग्स की कवरेज के लिए आपको टीम के साथ जाना है।’

‘पर सर, मैं अभी लौटी हूँ। यहां बहुत पेडिंग काम है, किसी और को भेज दें तो ठीक रहे।’

‘क्या कह रही हैं? गजानन बाबू खुद आपका नाम दे गए हैं, अब कोई चेंज पाॅसिबिल नहीं हैं। यहां आपका काम निशा देख लेंगी। आप तैयारी कर लें।’ अपनी बात पूरी कर उन्होने सामने पड़ी फ़ाइल खोल ली। उनसे कुछ कहना निश्चय ही व्यर्थ था। गजानन बाबू की बात नकार पाना संभव नहीं था।

मीता झुंझला उठी, ये भी कोई बात हुई जब देखो तब आलोक जी का फ़र्मान चला आता है, मीता न हुई उनकी जरख़रीद गुलाम हो गई। आखिर वो उसी को क्यों रिकमेंड करते हैंµक्या चाहते हैं वहे उससे?

अलका दी भी एक हफ्ते की छुट्टी ले, दिव्या का एडमीशन कराने शिमला गई हुई थीं। राहुल जी की राय थी, जब तक वे दोनों विवाह-बंधन में नहीं बंध जाते, दिव्या को उस माहौल से दूर ही रखना ठीक था। इधर-उधर की किसी ऐसी-वैसी बात से उसके कच्चे मन को चोट पहुंच जाने का डर था। विवाह के पहले शिमला के स्कूल में उसका एडमीशन कराने की उनकी राय, मीता को भी ठीक लगी थी। स्कूल के होस्टल में रहने बाली लड़कियों के साथ दिव्या का अकेलापन दूर हो जाएगा। विवाह के समय उठने वाली अप्रिय स्थितियों को भी सहज ही एव्याॅड किया जा सकेगा। उस बीच राहुल जी नवीन्द्र नाथ को मुकदमें की खबर देना चाहते थे। इन सभी बातों को ध्यान में रख, दिव्या के एडमीशन के लिए अलका दी को तैयार करने के लिए, राहुल जी ने मीता की मदद ली थी।

आज मीता को अलका दी की कमी बहुत खल रही थी, पर काम में तो ऐसी स्थितियां आती ही रहेंगी, उनसे डरकर भागा तो नहीं जा सकता। वैसे भी अपने को अशक्त समझना गलती है। उस दिन इसी बात पर तो कित्ता लम्बा लेक्चर खुद झाड़ आई थी।

नियत दिन दूरदर्शन की टीम के साथ मीता उस नए शहर में पहुंची थी। आलोक जी से सामना होते ही मीता ने अभिवादन में दोनांे हाथ जोड़ दिए थे।

‘अच्छी हैं?’ हल्की मुस्कान के साथ अभिवादन का उत्तर देते आलोक जी ने यूं ही पूछ लिया था।

‘जी...ई...।’

आलोक जी रूके नहीं। साथियों के साथ बाहर निकल गऐ। पीछे-पीछे लगभग दौड़ते से गजानन बाबू मीता के बांई ओर से निकल गए।

सम्मेलन अगले दिन शुरू होना था इसलिए सब काफी रिलैक्स्ड मूड में थे। इस बार वीडियोग्राफी के लिए नवीन की जगह श्याम सुन्दर आया हुआ था।

‘मीता जी आज का पूरा दिन हमारे पास है, चलिए इस शहर के दर्शनीय स्थान देखे जाएं।’

‘वाह, भली कही श्याम। मीता जी दर्शनीय स्थानों की जगह इस शहर की मशहूर हैंडलूम साड़ियों की दूकानों देखना ज्यादा पसंद करेंगी। क्यों ठीक कहा न, मीता जी?’ साउंड असिस्टेंट नरेन्द्र, स्त्रियों की पसंद के बारे में काफ़ी अनुभवी व्यक्ति था।

‘ग़लत, मैं तो घूमने की ज्यादा शौकीन हूँ। साड़ियां तो हर जगह मिल जाती हैं, बोलो कहां चलना है, श्याम?’ मीता उत्साहित थी।

‘चलने के लिए तो हज़ार जगहें हैं, पर चलेंगे कैसे?’ श्याम सोच में पड़ गया था।

‘नो प्राॅब्लेम। मीता जी, आप एक बार गजानन बाबू को फ़ोन भर कर दें गाड़ी अभी हाजिर हो जाएगी।’

‘वाह फ़ोन मंै क्यों करूं?’

‘क्योकि आपकी बात तुरन्त मानी जाएगी, विश्वास न हो तो अभी आज़मा कर देख लीजिए।’ष्श्यामसुन्दर ने फोन उठा मीता की ओर बढ़ाया।

‘मुझे नहीं करना है किसी को फ़ोन और ना हीं मैं कहीं जा रही हूँ। जिसे जाना है जाए।’ श्यामसुन्दर की बात मीता को गड़ गईं थी। सभी लोग मोका पा, टाॅन्ट कसने से बाज़ नहीं आते।

‘आप तो नाराज हो गईं, मैडम। मैने तो इसलिए कह दिया था क्योंकि महिलाओं को ‘न’ करना आसान नहीं होता। आई एम साॅरी, मैडम।’

‘ठीक है, पर अब मेरा जाने को मूड ही नहीं है। शायद मैं हथकरघा केंन्द्र जाऊँ।’ अपनी बात खत्म कर, मीता अपने कमरे में चली गई।

थोड़ी ही देर में उसके लिए फोन आया था। फोन पर दूसरी ओर गजानन बाबू थेµ

‘मैडम आप कहीं जाना चाहें तो गाड़ी भेज दी जाए।’

‘धन्यवाद। मुझे कहीं नहीं जाना है’

‘अगर थकान ज्यादा न हो तो गुलाबों की गार्डेन जरूर देख आइए। इस मौसम में इतने रंगों के गुलाब देख पाना, एक अनुभव होता है। आपको फूल बहुत पसंद भी हैं।’

‘नहीं गजानन बाबू, आज कहीं बाहर जाने का मूड नहीं है, फिर कभी सही।’

‘जैसा आप कहें। हां एक जरूरी बात, आज आप सबका डिनर मंत्री जी के साथ है। गाड़ी पहुंच जाएगी। डिनर में उनके ख़ास मेहमान आ रहे हैं।’

‘अगर मुझे माफ़ कर सकें तो अच्छा रहता। तबियत कुछ ठीक सी नहीं लग रही हैं।’

‘क्यों क्या हुआ? अभी डाॅक्टर भेजता हूँ, दवा लेकर आराम कर लीजिए, पर शाम के डिनर में आपका रहना ज़रूरी है, मैंडम। कुछ विशिष्ट महिलाएं डिनर में रहेंगी। आपको उनके इन्टरव्यू लेने हैं, ये मंत्री जी के आदेश हैं।’ उनके स्वर में घबराहट झलक रही थी।

‘ठीक है आप परेशान न हों, मैं पहुंच जाऊंगी और हां डाॅक्टर भेजने की जरूरत नहीं। थोड़ा सो लेने से ही ठीक हो जाउंगी।’

‘धन्यवाद, मैडम। वैसे डाॅक्टर यहीं है, उसे भेजना कठिन नहीं हैं।’

‘मैं जानती हूँ... पर ज़रूरत नहीं है। थैंक्स।’

फ़ोन रखकर मीता कुर्सी पर बैठ गई। बेचारा श्यामसुन्दर शायद बस में शहर के चक्कर लगा रहा होगा, पर ये लोग उसे ये क्यों एहसास दिलाते रहते हैं कि लड़की होने का उसे कोई ख़ास एडवांटेज मिलता है। कभी वे नोटिस क्यों नहीं लेते कि मीता उन लड़कियों में से नहीं है। उसकी जितनी मेहनत और कौन करता हैं? यहाँ आते सामय भी निशा, कान्ता ने क्या कुछ नहीं कहा। न जाने क्यों आलोक जी की कवरेज को उसे बार-बार आना पड़ता है। वो उसे ही क्यों बुलवाते हैं?

लेटने पर नींद आना संभव नहीं था, आरती, नीरज, अम्मा के साथ अलका दी भी याद आ रही थीं। शाम को न जाने किनका इन्टरव्यू लेना हो। थोड़ा देर तनाव-मुक्त रहना ज़रूरी सोच, मीता ने साथ लाई मैगजीन के पृष्ठ पलटने शुरू कर दिये थे।

अपनी बेवकूफ़ी पर उसे गुस्सा भी आ रहा था। यह शहर पर्यटन-कंेद्र है न जाने कितना कुछ देखने को होगा और वह होटल के कमरे मेें बन्द पड़ी थी। बिना काम, दिन काटना भी कितना मुश्किल हो जाता है। न जाने कब उसमें मैचयूरिटी आएगी। किसी ने कुछ कहा नहीं कि वह रिएक्ट कर जाती है। वैसा न हुआ होता तो अभी आराम से कार में सबके साथ कितना एन्ज्वाॅय कर रही होती।

किसी तरह बोरियत भरा वो लम्बा दिन बिता, मीता शाम की तैयारी में लग गई थी। बिस्किट रंग पर लाल ओडिसी बार्डर व आंचल वाली साड़ी निकाल, मीता बाथरूम में मंुह धोने चली गई थी।

माथे पर छोटी सी लाल बिंदी हाथों में लाल चूड़ियों के साथ कंधे पर लाल शाल डाले, मीता ने शीशे में अपने को निहारा था। दिन भर का सारा वैराग्य न जाने कहा छू-मन्तर हो चुका था। दर्पण में जीवन से भरपूर मीता मुस्करा रही थी।

कमरे से बाहर आई मीता को देखते ही विनय शर्मा ने हेलो कहा था।

‘बहुत जम रही हैं, मीता जी।’

‘थैंक्स।’ मीता हल्के से मुस्करा दी।

‘कहिए मैडम, अब आपका मूड कैसा है? हमसे नाराज तो नहीं हैं न? डरते-डरते श्यामसुन्दर ने पूछा था।’

‘नाराज तो जरूर हूँ, अकेले-अकेले घूम आए। मीता ने मज़ाक के स्वर में अपनी बात कही थी।’

‘तभी तो बिल्कुल मज़ा नहीं आया। पूरे समय यही लगता रहा आपको बेकार नाराज़ कर दिया।’

‘अच्छा-अच्छा अब बातें मत बनाओ, हमारी नाराज़गी की इतनी ही पर्वाह थी तो ज़िद करके हमे भी ले जाते, तब होती न बात।’

सब मिलकर हंस पडे़। अचानक वातावरण बहुत हल्का हो आया। विनय शर्मा ने शर्त रख दी।

‘कल शाम आप हमारे साथ होटल युवराज के फै़शन-शो में चलेंगी, तब हम मानेंगे कि आप नाराज़ नहीं हैं।’

‘आप क्या समझते हैं, कल रात हम फ्री रह पायेंगे?’

‘खैर कल की कल देखी जाएगी, फ़िलहाल तो चला जाए।’

दो कारों में सवार हो, सब राजभवन पंहुचे थे। बाहर खड़े सन्तरी ने सलाम ठोंक, आदर से द्वार खोल दिया।

दरवाजे की ओर मुंह किए आलोक जी खड़े थे। आस-पास सात-आठ लोग उन्हें, घेरे खडे़ थे। हाॅल में प्रविष्ट होती मीता की दृष्टि आलोक जी से जा टकराई थी। उनके होठों पर पहिचान की मुस्कान आ गई थी। उनकी दृष्टि का अनुसरण करती कई जोड़ी आंखें मीता पर गड़ गई थी। मीता संकुचित हो उठी।

अलका दी कहा करती थींµ‘लड़कियों की तो पीठ पर भी आंखे होती हैं, तभी तो उन्हें पता लग जाता है कोई पीछे से उन्हें टकटकी बांधे ताक रहा है। ठीक कहा न, मीता। फिर भी अलका दी धोखा खा गई थी।’

पीठ पीछे की छोंडों, यहां तो सामने से सीधा आक्रमण था। जल्दी से मीता ने पीछे हो, कहीं कोई कोना ढूूंढ लेना चाहा था कि आलोक जी उसकी ओर बढ़ आगे बढ़ आए।

‘आइए, आपका आज की कुछ विशिष्ट महिलाओं से परिचय करा दूं। उनसे आप बातचीत अपने ढंग से कर लें। मुझे विश्वास है, आप अच्छी तरह सब सम्हाल लेंगी।’

‘उनसे किस लाइन पर बातें करूं... आप क्या चाहेंगे?’ मीता ने उनकी राय चाही थी।

‘वही जो आपको ठीक लगे।’

‘किसी ख़ास विषय पर इन्टरव्यू लेना हैं?’

‘सब कुछ आप पर छोड़ता हूँ, कुछ विदेशी महिलाएं हैं पर उनके साथ उनके इन्टरपे्रटर हैं। उनकी कला-संस्कति पर प्रश्न पूछना अच्छा रहेगा।’

विशिष्ट महिलाओं के साथ उसे छोड़, आलोक जी पुरूष-समाज की ओर बढ़ गए थे। कुछ ही देर में मीता उन महिलाओं से बातचीत कर, सहज हो आई थी। उनसे उनके इन्टरव्यू की अनुमति ले, उनसे संकेत से श्यामसुन्दर को बुलाया था।

बीस-पच्चीस मिनट में मीता ने चार पांच महिलाओं के इन्टरव्यू रिकाॅर्ट करा लिए थे। इन्टरव्यू की खासियत यही थी, उसने हर महिला से अलग-अलग प्रश्न पूछे, पर सब मिलाकर उनसे आभिजात्य वर्ग की कला और संस्कृति उजागर होती थी। अपने काम से मीता काफी संतुष्ट थी, इसीलिए मूड भी अच्छा हो आया था। सचमुच उतनी विशिष्ट महिलाओं से मिल पाना, उसका सौभाग्य ही था। जापान की प्रतिनिधि ने तो उसके प्रश्नों की तारीफ़ करते हुए उसे ‘एक्सलेंट इन्टरव्यूअर’ करार दिया था।

इन्टरव्यू खत्म करते ही, वेटर ने कोल्ड ड्रिंक का ग्लास सामने कर दिया था। उस वक्त सचमुच गला तर करने की उसे सख्त जरूरत महसूस हो रही थी। पुरूषों के लिए तो पूरी बार खुली हुई थी। बेयरे अदब से ड्रिंक्स पेश कर रहे थें। स्त्रियों के लिए साॅफ़्ट डिंªक्स के साथ शैम्पेन सर्व की जा रही थी। कोल्ड ड्रिंक का घूंट लेती मीता के साथ, उसके सहकर्मी एक कोने में सिमट आए थे।

‘कल पूरे दिन का कवरेज है, बहुत टेंशन रहेगा। आज जी भर एन्ज्वाॅय कर लो श्यामसुन्दर।’ मीता ने उसे छेड़ा था।

‘आप यूं ही हंसती, हमारी साथ रहें तो दिन क्या आपके साथ पूरी रात जाग सकता हूँ, मीता जी।’

‘फिर वही बात, देखो श्याम, तुम जानते हो हमे ऐसी बातें एकदम नापसंद हैं। अगर ऐसी बातें करोगे तो बात करना बन्द कर दूंगी, समझें।’

‘तौबा मेरी जो फिर कभी मजाक करूं। श्यामसुन्दर ने दोनों हाथांे से कान पकड़ लिए थे। उसकी इस अदा पर मीता हंस पड़ी।’

‘भई अब तो अपने पेट में चूहे कूद रहे हैं, चलो डिनर लिया जाए।’ नरेन्द्र को भूख लग आई थी।

‘कमाल है यार, जबसे आया है हाथ से ग्लास नहीं छूटा फिर भी पेट खाली है।’ विनय शर्मा ने ताज्जुब प्रकट किया।

अरे मुफ़्त की शराब से किसका जी भरा है मेंरे भाई, फिर ये तो एपेटाइज़र है।’

सब डिनर टेबिल की ओर बढ़ गए। सच मुफ़्त की शराब लोग किस तरह पी जाते हैं, मीता को वितृष्णा सी होने लगी। जहां स्त्रियां आमंत्रित हैं, वहां भी क्या मदिरा-सर्व की जाना जरूरी हैं? आभिजात्य वर्ग की क्या बस इसी से पहचान होती है। पार्टी जब तक खत्म न हो जाए, वहां से हिलने का सवाल ही नहीं उठता था। पहले ही गजानन बाबू बता गए थे, कभी भी कवरेज की जरूरत पड़ सकती है, उन्हें अन्त तक रूकना ही था।

उस बातावरण में अचानक मीता अपने को बेहद अजनबी सा महसूस करने लगी। हाॅल के पीछे की ओर खुलती बाॅलकनी में सोफ़ा पड़ा हुआ था, हाल के तेज प्रकाश की जगह वहां का हल्का अंधियारा मीता को भला लगा। श्यामसुन्दर को अपने बैठने की जगह बता, मीता बालकनी में जा बैठी। रात गहराती जा रही थी, सामने के घने पेड़ो से हल्की-हल्की हवा मीता को दुलरा रही थी। सोफे़ की पीठ से सिर टिका मीता ने रिलैक्स्ड होना चाहा था। अचानक किसी की उपस्थिति के एहसास ने, मीता को चैंका दिया।

हाथ में ग्लास थामे, आलोक जी उसके पास आ बैठ्र थे। संकोच से मीता एक ओर सिमट गई थीµ‘आप...?’

‘मेरे यहां बैठने पर आपको आपत्ति तो नहीं है, मीता जी?’

‘नहीं...पर... आप आपको तो लोग हाल में खोजेंगे... आप होस्ट हैं, न?’ मुश्किल से लड़खड़ाते स्वर में मीता ने अपनी बात कही थी।

‘इस समय सब अपनी-अपनी दुनिया में डूबे हैं, मीता जी, इसलिए मैं यहां आपके पास चला आया। कुछ लेंगी?’ अपने हाथ में पकड़ा ग्लास आलोक जी ने मीता की ओर बढ़ाया था।

‘जी नहीं, मुझे कुछ नहीं चाहिए। बहुत देर हो गई, अब हमे जाना चाहिए।’ मीता ने खड़ा होना चाहा।

‘थोड़ा रूको मीता,... मुझे तुमसे कुछ कहना है। आज रात कुछ देर मेरे लिए रूक सकोगी, प्लीज?’ मीता को जबरन बैठाते हुए उन्होंने अनुनय सी की थी।

‘क्या कहना है, अभी कह दीजिए। मैं रात को देर तक कहीं नहीं रूक सकती।’

‘मेरे लिए तो रूकना ही होगा मीता... जो कहना है वो यहां ऐसे नहीं कहा जा सकता। वो बात तुमसे अकेले में ही कहनी हैं। कुछ देर बाद चली जाना मीता...।’

‘ओह नो...।’ मीता ने हथेलियों में मुंह छिपा लिया। अन्ततः उसके सामने भी वही अवांछनीय स्थिति आ गई थी-क्या करे मीता? नहीं़... नहीं... वह डरेगी नहीं, अपने ऊपर भय को हावी नहीं होने देगी।

‘क्या बात है, तबियत तो ठीक है न? शायद थक गई हो... ये लो इसे थोड़ा सा पीलो, थकान दूर हो जाएगी।’ हाथ में पकड़ा ग्लास आलोक जी ने मीता के ओठों से छुआया था।

आलोक जी के हाथ में पकड़ा ग्लास झटके से छीन, मीता ने जोर से जमीन पर पटक दिया। शीशे का ग्लास झनझना कर बिखर गया। तरल द्रव जमीन पर फैल गया। आक्रोश से कांपती मीता उठ खड़ी हुई।

‘मैं शराब नहीं पीती... और ये भी अच्छी तरह जानती हँूµरात को अकेले में आप मुझसे क्या कहना चाहते हैं। मंत्री होने का ये मतलब नहीं, जो चाहें कर लें मैं आपके पर से डर जाऊंगी, ये सोचना आपकी भूल हैं, मंत्री जी। पुरूष का शोषण सहने वाली लड़कियों में से मैं नहीं हूँ समझे।’

ग्लास टूटने की ज़ोरदार आवाज हाॅल तक पंहुची थी। मीता के उत्तेजित स्वर ने लोगों की भीड़ वहां जमा कर दी। राख-पुते चेहरे के साथ सोफे की पीठ से सिर टिकाए-आंखे मूंदे, आलोक जी निर्वाक बैठे रह गये थे।

गजानन बाबू ने आकर तत्परता से बात सम्हालनी चाही थीµ

‘मैडम, आप शान्त रहें। आपको कोई गलतफ़हमी हुई है। शाम से ही आपकी तबियत ठीक नहीं थीं... अरे शर्मा जी मैडम को उनके होटल छोड़ आएं। उनका जी अच्छा नहीं है...।’

‘मुझे कोई गलतफ़हमी नहीं हुई है’ औरतों का अनवरत शोषण, पुरूष का जन्मसि( अधिकार नहीं है। आपके मंत्री जी को जब होश मे आए, ये बात समझा दीजिएगा।’ तेजी से पांव बढ़ाती मीता हाॅल के बाहर आ गई थी। पीछे से भागते आए शर्मा जी ने उसके साथ कार में बैठना चाहा तो मीता ने उन्हें भी झाड़ दिया।

‘कोई ज़रूरत नहीं है। जाइए अपने मंत्री जी को होश में लाइएµमैं अकेले जा सकती हूँ। कार का दरवाज़ा जोरों से बन्द कर, मीता ने ड्राइवर को होटल चलने के निर्देश दिये थे।’

कमरे मे पहुंच मीता देर तक गुस्से से कांपती बैठी रह गई। ये क्या हो गया? अपने कत्य पर विश्वास कर पाना, उसे सहज नहीं लग रहा था। थोड़ी देर बाद उस बात के परिणाम भी स्पष्ट होने लगे थे। नौकरी चली जाने पर नीरज क्या अपनी पढ़ाई पूरी कर पाएगा। अम्मा और आरती का क्या होगा। उस स्थिति को भी वह शंति से क्यों नहीं टाल सकी? इतना ज्यादा उत्तेजित हो जाना क्या ठीक था, लोग न जाने क्या-क्या सोच रहे होंगे, पर अब जो हो गया, उसे बदला नहीं जा सकता था।

थोड़ी देर बाद किसी ने दरवाजे पर दस्तक दी थी। कुछ देर चुप बैठे रहने के बाद दूसरी दस्तक पर मीता ने दरवाजा खोला था।

‘हम अन्दर आ सकते हैं? श्यामसुन्दर ने पूछा था।’

‘आइए। उन्हें रास्ता बनाती, मीता पीछे हट आई थी।’

‘हम आपको बधाई देने आए है। आपने तो कमाल ही कर दिया। श्यामसुन्दर के स्वर में अत्साह था।’

‘ऐसे करप्ट मंत्री को अच्छा सबक सिखाया आपने। कितना आदर्शवादी बनता था। विनय शर्मा ने भी अपनी टिप्पणी दी थी।’

‘वैसे आलोक जी से ऐसी उम्मीद नहीं थी...वो दूसरों से अलग लगते थे।’ प्रोड्यूसर चंचल कुमार सोच में पडे़ से लगते थें।’

‘माफ़ करंे मैडम, पर आपसे उन्होंने क्या कहा था।’ नितिन पूछ ही बैठा।

‘क्या बकवास है, चुप रहो। इतना भी नहीं समझते।’ नरेन्द्र नाराज़ हो उठा।

मीता जानती थी नितिन ने जो पूछा, वो बात सबको मथ रही थी, पर पूछने का साहस वही कर सका।

‘एक बात बताना चाहूंगा... आलोक जी ने सबके सामने अपने आचरण के लिए आपसे माफ़ी मांगी है। इतना तो मानना ही पडे़गा, ये उनका बड़प्पन था, वर्ना वो आप पर ही तोहमत लगा सकते थे। कोई और मंत्री शायद वैसा ही करता’़... चंचल कुमार ने मीता को जानकारी देने के साथ आलोक जी के प्रति अपनी भावना भी प्रकट की थी।

‘इसके अलावा और वो कर भी क्या सकते थे? सच छिपाना आसान नहीं होता मिस्टर कुमार’ मीता फिर उत्तेजित हो रही थी।

‘आप नाराज न हों मैडम, कल देखिएगा न्यूज पेपर में आप ही छाई रहेंगी। श्यामसुन्दर फिर ग़लती कर गया।’

‘मैनें वो सब नाम पाने के लिए नहीं किया... मुझे बर्दाश्त नहीं हुआ बस...। अखबारांे से मुझे कुछ लेना-देना नहीं है।’

‘डोंट वरी, एक बार आलोक जी ने गलती स्वीकार कर ली फिर मैडम पर कोई आंच नहीं आने वाली है। तब तो आलोक जी का भविष्य खत्म समझांे।’ नितिन उत्साहित था।

‘अरे उनका वा सेक्रेट्री गजानन है न, पूरा पुराना घाघ है। वह इस बात को तोड़-मरोंड़ सकता है। पूरे पे्रस वालों को खिला-पिलाकर अपने कंट्रोल में कर रखा है।’

सब अपनी-अपनी अटकलें लगा रहे थे। तभी चंचल कुमार की दृष्टि मीता के चेहरे पर पड़ी थी।

‘बस अब बातें बन्द करो, मैडम को आराम करने दो, बहुत देर हो गई है।’

सबने मीता की ओर देखा था उसके चेहरे पर थकान स्पष्ट थी। चलते-चलते चंचल कुमार ने सूचना दी थीµ

‘कल के प्रोग्राम की कवरेज के लिए हमारी ज़रूरत नहीं है। कल बारह बजे की टेªन से हम वापिस लौट रहे हैं इसलिए सुबह जल्दी उठने की जरूरत नहीं है। अब आप आराम करें। गुड नाइट।’

सबके चले जाने के बाद भी मीता बहुत देर तक वैसे ही कुर्सी पर बैठी रही। आलोक जी ने क्या कहा होगा? उन्होंने क्या कह कर माफी मांगी होगी? चलो जो हुआ ठीक ही हुआ। दूसरों कहकर माफी मांगी होगी? चलो जो हुआ ठीक ही हुआ। दूसरों को भी सबक मिलेगा। अलका दी तो जरूर उसकी पीठ ठोंकेगी, पर सचमुच अगर उन्होंने अपनी गलती न मानी होती तो? कौन सा प्रमाण थी मीता के पास? उतने लोगों के बीच अशोभनीय आचरण भला विश्वास-योग्य बात होती। न जाने क्यों बार-बार मीता अपने व्यवहार के लिए खुद को जस्टीफ़ाई कर रही थी। उधेड़बुन में पड़ी मीता न जाने कितना सोई, कितना जागी।

वापिस लौटकर भी उसे न जाने कितनी प्रश्नवाचक दृष्टियों का सामना करना होगा। साथ के लोग क्या उस पर विश्वास कर सकेंगे स्टेशन डाइरेक्टर साहिब तो पहले ही ज़रा-ज़रा सी बात पर नर्वस हो जाते हैं, यह तो अकल्पनीय था।

दूसरी सुबह सबके सामने बेहद सामान्य बनी रहने का नाटक करती मीता, होटल आउंज में आ बैठी थी, पर सारी दृष्टियां अपने पर ही गड़ी लग रही थी।

अचानक उसे लगा वह भी तो नर्वस है, पर क्यों? उसने कौन सी गलती की है बल्कि उसने तो अपराधी का भंडाफोड़ किया है। नहीं मीता, तुझे इस भय से उबरना होगा। बेहद सहज भाव से सामने पड़े अखबार को मीता ने उठाकर खोला था।

कल की घटना का अखबार में कोई ज़िक्र नहीं था। सचमुच गजानन बाबू का हर काम पक्का होता है। अखबार में उस घटना की कोई चर्चा न देख, मीता को शांति मिली या अशान्ति, पता नहीं, पर एक के बाद एक सभी अखबारों पर उसने दृष्टि जरूर डाली थी। पास बैठ्र चंचल कुमार ने धीमे से कहा थाµ

‘न्यूजपेपर में उस बात का न छपना अच्छा रहा, वर्ना लोग बेबात की उड़ा डालते हैं।’

स्टेशन डाइरेक्टर छुट्टी पर गए हुए थे। मीता ने शंति की सांस ली, जब तक वह वापिस आएंगे बात पुरानी पड़ चुकी होगी हांलाकि वैसी बातें हमेशा ताजी़ ही रहती हैं। निशा, कान्ता, नीलम सबने उसे घेर लिया थाµ

‘ऐ मीता, क्या किया था उस शैतान ने?’

‘हमें तो पहले शक था, वह तुझ पर डोरे डाल रहा था, वर्ना हर बार तुझे ही क्यों चुनता?’

‘चल तुने भी उसकी अक्ल ठिकाने लगा दी। कुछ ज़्यादा ही ज़्यादती की होगी तभी तो...।’

‘अरे बड़ी घुन्नी है, आसानी से थोड़ी बताएगी।’

‘क्या जाने क्या असलियत है, मैं तो कहती हूँ जब तक हम लिफ़्ट नहीं देगें। किसी की मज़ाल है जो आंख भी उठाकर हमारी ओर देख सके।’ निशा की बात पर मीता ने भर दृष्टि उसकी ओर देखा था। कौन नहीं जानता प्रोड्यूसर कमल कुमार के साथ निशा के क्या संबंध हैं। इस समय अलका दी की कमी मीता को बेहद खल रही थी।

उसका मौन देख चंचल कुमार ने राय दी थी वह चाहे तो कुछ दिनों को घर जाने की छुटटी दी जा सकती है, पर उस मनः स्थिति को क्या वह अम्मा से छिपा सकेगी। कोई गलती न होने पर भी अम्मा का संशयी मन न जाने कहाँ-कहाँ की सोच डालेगा। सच, औरत की सबसे बड़ी दुश्मन उसके अन्दर बैठी भीरू औरत हैं। मीता उसी भीरू औरत को कुचल कर रहेगी-दढ़ निश्चय के साथ मीता काम में जुट गई थी।

एक हफ़्ते बाद मीता के नाम अपरिचित लिखाई का एक नीला लिफ़ाफा मिला था। मीता को शायद पता था ऐसा कोई खत उसके नाम आने वाला था, इसीलिए उसे खोलने की उसे कोई जल्दी नहीं थी। एक बार तो जी में आया बिना पढे़ उसके टुकड़े टुकड़े कर, वापिस पोस्ट कर दे, फिर न जाने क्यो सोच पर्स में डाल लिया।

पूरे वक्त वो खत उसके दिमाग पर हावी था। क्षमा-याचना पहले पब्लिक में करके अब उसे इम्प्रेस किया जाना था। बाबूजी कहा करते थे, वही राजनीतिज्ञ सफल बन सकता है जो जनता को गुमराह कर सके। अपनी गलतियों को उजागर कर, उनके लिए आम जनता से क्षमा मांग, अपनी अच्छाई की धाक जमा सके। इन बातों से भोली जनता का वो एक अंग बन जाता है। दोषयुक्त व्यक्ति उन्हें ज्यादा अपना लगता है। शायद आलोक जी ने अपनी पुरूषोचित कमज़ोरी के लिए माफ़ी मांग, बाबूजी की ही बात सिद्व की होगी।

ऊहापोह की स्थिति से उबरने के लिए उसने ख़त पढ़ने का ही निर्णय लिया था। अगर वह सोचते हैं मीता को मूर्ख बनाया जा सकेगा, तो यह उनकी गलती होगी। किसी भी भावुकतापूर्ण बात से अप्रभावित रहने का निर्णय ले, मीता ने खत खोला थाµसाफ अक्षरों में लिखा गया थाµ

मीता जी,

यह पत्र किसी तरह के स्पष्टीकरण के लिए नहीं भेज रहा हूँ, सिर्फ एक अनुरोध है, इसे बिना पढं़े फाड़ मत देना।

उस रात जो कहना चाहता था उसे बिना बताए मेरा प्रायश्चित अधूरा है। किसी अपराधी का कन्फे़शन मान, सुन पाना शायद उतना कठिन न लगेµ

राघवपुर गांव में पुरखों की हवेली है। शायद आपने ये नाम भी न सुना हो। गांव के जमींदार का एकमात्र वारिस मैं, सब पर रोब जमाना ही जानता था। शहर से मैट्रिक पास कर लौटने पर मेरा आदर-मान ज्यादा ही बढ़ गाया था। गांव में सोना को देख, अपने को भूल गाया था। वो सचमुच गुलाब के फूल सी अनूठी थी। उसके बदन की सुवास मुझे मदहोश बना जाती। न जाने कौन सा आकर्षण था उसमें कि मैं शहरी लड़का, उसके पल्लू से बंधा घूमता था। मेरी दुनिया सोनामय हो गई थी।

यौवन की पहली भूल की पहल मेरी ओर से हुई, पर फल सोना ने भुगता था। दुसाध टोले की सोना ने कहीं कुछ नहीं छिपाया थाµ उसकी कोख से खिलने वाला फूल, राजा बाबू के प्यार की निशानी था।

उसकी सारी बिरादरी हवेली पर चढ़ आई। बाबा के लिए वैसी बातें नई नहीं थी ब्राह्मण कुल का बेटा, दुसाध की बेटी से ब्याह करे, कलयुग और किसे कहते हैं? गांधी बाबा ने इन छोटी जात वालों को सिर चढ़ाकर बर्बाद कर दिया। कुछ ले-दे कर बात खत्म करने की बात पर सोना की बिरादरी वाले और भी भड़क गए थे। अपने अधिकार वे समझने लगे थे, फिर भी जाति-धर्म पर पूरी तरह विजय नहीं पा सके थेµ

‘पंचायत में राजा बबुआ गंगाजली उठाकर कहें, सोना से उनका ब्याह नहीं हुआ, उससे उनका संबंध नहीं बना, तभी बात साफ होगी।’

पंचायत के सामने अपनी भूल स्वीकार करने का अर्थ बाबा की मौत थीµहां यही बात मुझे बार-बार बताई गई थी। मेरे प्यार को उन्होंने ‘पाप ही कहा था। वर्षाे से बाबा पंचायत के सरपंच बन, दूसरों के झगडे़ निपटाते आए थे। इस बार उनकी अग्निपरीक्षा थी। अपना रक्त ही उन्हें धोखा दे गया था। पंचायत में सामने खड़ी सोना मुझ पर सीधी दृष्टि डाल, विश्वास से मुस्कराई थी। मुझ जैसे उच्च कुलीन, ब्राह्मण के वाक्यों पर अविश्वास का सवाल ही कहां उठता था, फिर मैंने तो उससे गंधर्ब ब्याह रचाया था, वर्ना भला वह अपने को मुझे सौंपने को तैयार होती? गंगाजल उठा मैंने साफ शब्दों मे कहा थाµ’

‘इससे मेरा कोई वास्ता नहीं, उसकी कोख में पल रहे पाप के लिए मैं जिम्मेदार नहीं था।’

नही... कहीं एक क्षण को भी नहीं लड़खडाया था। अपनी बात खत्म करते ही अचानक मेरी दृष्टि सोना की जल रही आंखों से टकराई थी। उस भोले-निष्पाप पीले मुंह पर उन अंगारों को देख मैं सहम गया था। आंखे नीचे करने पर भी वे मुझे अन्दर तक जलाए जा रही थीं। प्रतिवाद में वह एक शब्द भी नहीं बोली। सारी बिरादरी सन्नाटा खा गई थी। गंगाजली उठाकर मैंने झूठ कहा... ये कहने का साहस किसमें था?

पंचायत के फैसले की सोना ने प्रतीक्षा नहीं की थी, पहाड़ पर स्थित उस मंदिर से नीचे कूद, उसने अपना जीवन समाप्त कर लिया, जहां उससे मैंने गंधर्व विवाह किया था। बाबा ने सारी बिरादरी को दावत के साथ दान-दक्षिणा दे, विश्वास दिला दिया कि सोना पापिन थी सो डरकर आत्महत्या कर ली।

सब जानते समझते थे, पर मेरा तो रोम-रोम अपराधी था।

सोना की वो जलती दृष्टि आज भी मेरे अन्तर को जलाए जाती है। उसी दिन से मांस-मदिरा का परित्याग कर, ग्राम सेवा का, व्रत ले डाला था। प्रायश्चित भला इससे किया जा सकता है? एक बात और है सोना की जगह किसी और की कल्पना भी नहीं कर सका। शादी के लिए बाबा ने हाथ तक जोड़े, उनकी वंश-बेलि यूं ही समाप्त न हो जाए, पर मैंने कभी शादी न करने का, व्रत नहीं तोड़ा। बाबा की मृत्यू का भय सोना की मृत्यू ने खत्म कर दिया था। वंश चलाने के लिए उस उम्र से बाबा को एक बीस वर्षीया लड़की से शादी करनी पड़ी-वो पाप नही थाµहै न विरोधाभास? मैं ग्राम-सेवा करता यहां तक आ पहुंचा, पर सोना हमेशा मेरे साथ रहीµ

उस दिन जब पहली बार आपको देखा, तो चैंक गया था। वैसा ही निष्पाप भोला मुंह और उतनी ही चमकीली गहरी काली आंखें-जिनमें डूब मैं अपना आपा खो बैठा था। वर्षाे से सोना मेरे अन्तर में कैद है मीता जी, उसकी आत्मा मुक्ति के लिए छटपटाती है, न्याय मांगती है, पर मैं उसे मुक्ति न दे सका। आपसे मिलकर लगा अपनी कहानी आपको सुना, सोना के प्रति किए अपने अपराध-बोझ को शायद कुछ कम कर संकू।

उस रात मेरी बात का गलत अर्थ लगा, आपने मुझ पर बहुत बड़ा एहसान किया है, मीता जी। आज से वर्षो पूर्व सोना के प्रति अपने जिस अपराध को स्वीकार नहीं कर सका, आपके नाम पर कर लिया। लोग मुझे वही समझें, जो मैं असल में हँू, और क्या चाहना शेष है?

वर्षो से मेरे मन पर जो बोझ था, उसका कुछ अंश अतारने में आपको जो कष्ट हुआ, उसके लिए क्षमा करें। न जाने क्यों आपसे मिलकर लगा था, आप मेरे दुख को समझ सकेंगी-मेरे दुख बांट सकेंगी-शायद वो सुनकर भी आप नफ़रत करतीं, अब भी करेंगी पर इस वजह से आपको दुखी नहीं करना चाहा थाµशराब मैंने तब से कभी नहीं पीµउस दिन भी नहीं, गुलाब-खास मदिरा नहीं होता... वो लालष्शर्बत था!

मंत्री-पद से त्याग पत्र दे, जा रहा हूँ। आजीवन आपका )णी रहंूगा। विदा।

µआलोक

ये क्या हो गया? पत्र को फटी-फटी दृष्टि से ताकती मीता, स्तब्ध रह गई। अम्मा कहा करती थीं, सब आदमी एक से नहीं होते, पर सच तो यही था उसने आलोक जी की हर बात पर शक किया जबकि वह...। अलका दी का सत्य, उस पर ‘डर’ बन इस कदर हावी था कि वह अन्धी बन गई।’

नही... नहीं, उन्हें रोकना ही होगा। मुझे अपराधी बनाकर वह यूं नहीं जा सकते-नहीं जा सकते। उन्हें मुझे माफ करना ही होगा। तत्परता से गजानन बाबू का नम्बर डायल कर, दूसरी ओर से आने वाली आवाज की मीता उत्सुकता से प्रतीक्षा करने लगी।

उन कुछ पलो में मीता अपने दिल की आवाज़ साफ़-साफ़ सुन पाई थी। अनजाने ही वो, आलोक जी के नेह-बंध में बंध चुकी है। आलोक जी का प्रायश्चित पूरा हो चुका है, पर मीता क्या करे? नहीं, उसकी भूल आलोक जी के जीवन को यूं बिखरने नहीं देगी। आलोक ने उसमें अपनी सोना को देखा है। अपनी इस ‘सोना’ के लिए उन्हें वापस लौटना ही होगा। मीता जान गई, आलोक जी जरूर आंएगे। ज़रूर आयेगे....

3 टिप्‍पणियां:

  1. Wonderful Story... I admire the way you write these stories... Keep it up aunty ji...

    उत्तर देंहटाएं
  2. Third time I am reading this story. I am not able to stop my fingers to write this comment. You are excellent. What a smooth story line.

    उत्तर देंहटाएं
  3. Excellent is a short word for this story.keep it up

    उत्तर देंहटाएं

यह ब्लॉग खोजें

Previews